इन्द्रायण है हमारे लिए बहुत फायदेमंद, जानिए कैसे!

इन्द्रायण मुख्य रूप से 3 प्रकार की होती है।

  •  पहली छोटी इन्द्रायण, दूसरी बड़ी इन्द्रायण और तीसरी लाल इन्द्रायण होती है। इन्द्रायण एक लता होती है जो पूरे मरू भूमी या बलुई क्षेत्रों में पायी जाती है, भारत में यह खेतों में उगाई जाती है।
  •  आज हम आपको बताएंगे इन्द्रायण हमारे लिए कैसे फायदेमंद है। आजकल काफी लोग गंजेपन की प्रॉब्लम से परेशान हैं। इंद्रायण के पत्तों को कूटकर 50 ग्राम रस निकालें और 50
  • ग्राम तिल के तेल के अंदर पकाओ जब पूरा रस उड़ जाए।फिर  इस तेल से रात को सिर पर मालिश करने से आप गंजेपन की प्रॉब्लम से छुटकारा पा सकते हैं और बाल झड़ना बंद हो जाएगा।
  • इन्द्रायण के फल के रस या जड़ की छाल को तिल के तेल में उबालकर तेल को मस्तक पर लेप करने से आप मस्तक के दर्द से छुटकारा पा सकते हैं।
  • इन्द्रायण के पत्तों का लेप गांठ पर बांधने से वह बैठ जाती है।
  • इन्द्रायण के फलों को घिसकर नाभि पर लगाएं और इसकी जड़ का चूर्ण 2 ग्राम की मात्रा में पानी के साथ सोते समय लें, कब्ज में लाभ होगा।
  • इन्द्रायण के बीजों का तेल नारियल के तेल के साथ बराबर मात्रा में लेकर बालों पर लगाने से बाल काले हो जाते हैं।

यह भी पढ़ें: 

इन सब कारणों से हो सकती है आपके गर्भाशय में सूजन

सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है बिना तकिए के सोना