चने की दाल के सेवन से आयरन की कमी पूरी होती है

दाल को एक बहुत ही ज्यादा पौष्टिक आहार माना जाता है। इनमें एक चने की दाल भी होती है जो सेहत के लिये बहुत ही  फायदेमंद रहती है। दरअसल पहले काले चनों को दो टुकड़ों में कर दे और इसके बाद उसे पॉलिश कर देने से यह चने की दाल बन जाती है। आइये जानते है चने की दाल से होने वाले फायदों के बारे में-

चने की दाल से डाइबिटीज पर पूरी तरह नियंत्रण कर सकते है।  चने की दाल में पाया जाने वाला ग्लाइसमिक इंडेक्स रक्त में शुगर की मात्रा को पूरी तरह नियंत्रित करता है और शरीर में ग्लूकोज  की अतिरिक्त मात्रा को भी कम करने में मदद करता है। जिससे डायबिटीज के मरीजों को बहुत फायदा मिलता है।

यह दाल फाइबर से भरपूर होती है। इस दाल का सेवन वजन कम करने में बहुत ही ज्यादा मदद करता है। ये कोलेस्ट्रॉ़ल को कम करता है, जो पाचन तंत्र को ठीक तरह से काम करने में मदद करता है। चना की दाल से कब्ज की परेशानी दूर होती है।

चने की दाल के सेवन से आयरन की कमी पूरी होती है। इसमें मौजूद फास्फोरस और आयरन नई रक्त कोशिकाओं को बनाने में सहायक होते हैं और हीमोग्लोबिन के स्तर को भी बढ़ाते हैं, जिससे एनीमिया की समस्या अथवा यह रोग होने की संभावना  कम हो जाती है।

पीलिया रोग में चने की दाल के सेवन से काफी फायदा होता है। चने की 100 ग्राम दाल में दो गिलास पानी डालकर चनों को कुछ घंटों के लिए भिगो लें और दाल से पानी को अलग कर लें अब उस दाल में 100 ग्राम गुड़ मिलाकर 4 से 5 दिन तक रोगी को देते रहें।

यह भी पढे:-

गुस्सा हमारी सेहत को बहुत ज्यादा प्रभावित करता है आइये जाने यहाँ