Breaking News
Home / छत्तीसगढ़ / नजरिया: राहुल गाँधी का ये अवतार बीजेपी के लिए मुश्किल बन रहा है

नजरिया: राहुल गाँधी का ये अवतार बीजेपी के लिए मुश्किल बन रहा है

नई दिल्ली: हमारा देश ऐसा है की यहाँ आये दिन कही ना कही चुनाव होते रहते है| आजकल चार राज्यों में चुनावी हवा चल रही है और इन चुनावो को आगामी लोकसभा चुनावो का सेमी-फाइनल कहा जा रहा है| ऐसे में भाजपा और कांग्रेस लगातार जोर अजमाइश कर रही है| कांग्रेस की तरफ से अकेले राहुल गाँधी लगातार युद्ध मैदान में उतरे हुए है और एक के बाद एक राज्य जाकर कांग्रेस को पहले जैसी मजबूती देने में लगे है| ऐसे में राहुल गाँधी का एक नया अवतार देखने को मिला है वो अवतार जिसकी कल्पना शायद बीजेपी ने कभी नहीं की थी और ये अवतार बीजेपी के लिए मुश्किल का सबब बनता जा रहा है|

खुद को बदलते राहुल– कांग्रेस अध्यक्ष ने अपना अवतार बदला और खुद को एक नए ढर्रे में लेकर आये| ऐसा लगा की देश में हिन्दू की लहर चल रही और ये बात बीजेपी के लिए सबसे मजबूत बात थी तो और कांग्रेस को साफ तौर पर मुस्लिमो की पार्टी कहा जाता था लेकिन राहुल अब छवि को तोड़ने में लगे हुए है| अलग अलग राज्यों में जाना और जहाँ भी जाना वहां मंदिरों में जरूर जाना राहुल गाँधी का सबसे पहला काम है| मतलब कम्पलीट हिंदुत्व की छवि दिखाने में लगे हुए है और ऐसे में बीजेपी को लग रहा है की अब ये हमारे हिन्दू वोट बैंक में सेंध डालेगा क्योकि कही ना कही तो लोग प्रभावित होगे और आज नहीं तो कल ये मान लिया जाएगा की राहुल गाँधी की भी हिन्दुओ के हितैषी है| ये बीजेपी का सबसे बड़ा वोट बैंक है और इसमें सेंध लगती नजर आ रही है और उसके लिए ये मुश्किल बन रहा है|

कार्यकर्त्ता और लोगो से मिलना– आमतौर पर बीजेपी ने कांग्रेस को बीते कई सालो में ऐसा प्रचार करके बना दिया था की इनका कल्चर होटल वाला है, ये किसी से नहीं मिलते, आम लोगो से इनका संवाद नहीं होता है और ना ही ये कार्यकर्ताओ की सुनते है लेकिन राहुल गाँधी ने ये इमेज भी बदलनी शुरू कर दी है| राहुल जहाँ भी जाते है कार्यकर्ताओ से अलग से मिलते है और इसके अलावा सडक के किनारे चाट पकौड़ी खाना, ढाबे में खाना खाना और फिर बाहर के लोगो से मिलना ये राहुल गाँधी के लिए अब आम हो गया है| राहुल का संवाद सीधे जनता हो रहा है और ये होटल वाले कल्चर की इमेज भी वो खत्म करने की कगार में है| ऐसे में भाजपा के लिए मुश्किल है की अब वो क्या करे|

मुद्दों को पकड़ने की कला– राहुल गाँधी में एक बहुत बड़ा बदलाव आया है जो की एक विपक्ष के बड़े नेता में होना चहिये और वो है की मुद्दों को पकड़ा कैसे जाए| इसका सबसे बड़ा उदाहरण है सीबीआई के डायरेक्टर को हटा देने का केस| इसको राहुल ने सीधे ही राफेल से जोड़ दिया जिस मुद्दे को लेकर वो गाँव गाँव जा रहे है| ये एक नेता की कला है की सरकार को घेरने का कोई भी मौक़ा ना छोड़े| ऐसे में कही ना कही भाजपा की समस्या बढ़ रही है क्योकि उन्हें लगता है की अब ये हर एक मुद्दा उठा रहा है जो की नहीं उठाना चाहिए था|

बीते चार साल में भाजपा ने सभी पार्टियों को शिथिल करते हुए जिस तरह से शासन किया है उड़े देखकर लगता है की अब ऐसा नहीं होने वाला है| राहुल गाँधी के ये बदलाव कही ना कही भाजपा के लिए गले के फ़ांस बन रहे है|

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *