तो क्या स्विस बैंकों में नहीं है भारतीयों का कालाधन ? SNB के ताजा आंकड़ों से मिलते है ये संकेत

स्विस बैंकों में पैसा रखने के मामले में भारत तीन स्थान फिसलकर अब 77वें स्थान पर आ गया है। पिछले साल इस सूची में भारत का स्थान 74वां था। स्विट्जरलैंड के केंद्रीय बैंक द्वारा जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक सूची में ब्रिटेन पहले स्थान पर कायम है। वही आंकड़ों से पता चलता है कि भारतीय नागरिकों और कंपनियों द्वारा धन जमा करने के मामले में भारत का स्थान काफी नीचे है। स्विस बैंकों में भारतीयों का हिस्सा मात्र 0.06 प्रतिशत है।

एसएनबी के ताजा आंकड़ों की बात करे तो भारतीय नागरिकों तथा कंपनियों का स्विस बैंकों में जमा धन 2019 में 5.8 प्रतिशत घटकर 89.9 करोड़ स्विस फ्रैंक रह गया था। इसमें भारतीय ग्राहकों के सभी तरह के खाते शामिल है। इन आंकड़ों से भारतीयों के कालेधन को लेकर जो चर्चाएं होती है, वह निराधार साबित होती दिखाई देती है। बता दे इन आंकड़ों में उन भारतीयों का धन शामिल नहीं है जो स्विस बैंकों में तीसरे देशों की इकाइयों के नाम पर रखे गये हैं।

सूची में ब्रिटेन पहले स्थान पर है। उसके बाद अमेरिका दूसरे, वेस्ट इंडीज तीसरे, फ्रांस चौथे और हांगकांग पांचवें स्थान पर है। शीर्ष दस देशों में जर्मनी, लक्जमबर्ग, बहामास, सिंगापुर और केमैन आइलैंड भी शामिल है। ब्रिक्स (ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका) देशों में भारत सबसे नीचे है।

यह भी पढ़े: सांवलेपन को लेकर बिपाशा बसु ने रखी अपनी बात, बताया किन-किन परेशानियों का करना पड़ा सामना
यह भी पढ़े: धारा-370 खत्म होने के बाद J&K की स्थायी नागरिकता प्राप्त करने वाले नवीन कुमार पहले IAS अधिकारी