कहीं डिप्रैशन का शिकार तो नहीं है आपका पार्टनर

डिप्रैशन एक बहुत ही आम और बहुत गंभीर बीमारी है। बदलते लाइफस्टाइल और तनावभरी जिंदगी में डिप्रैशन अब आम सुनने को मिलता है। कई लोग तो इस समस्या को वहम समझ कर नजरअंदाज भी कर देते हैं। सही समय पर इसका इलाज न किया जाए तो आगे चलकर इसके परिणाम बहुत ही बुरे हो सकते हैं। हो सकता है कि आपके आस-पास या फिर पार्टनर भी डिप्रैशन का बुरा शिकार हो। इसके लिए जरूरी है डिप्रैशन के लक्षणों को सही समय पर पहचाना जाए। पार्टनर का सही समय पर इलाज करवा कर इस परेशानी से बचा जा सकता है।

1. शरीर बेजान होना
लोगों की जिंदगी में बहुत से बड़े-बड़े उतार-चड़ाव आते हैं। नौकरी और घर के कामों की वजह से जिंदगी में बहुत सी परेशानियां लगी ही रहती हैं। लेकिन जब कोई लोग व्यर्थ की चिंता करने लगे और हर समय उदास रहने लगे तो समझ लें कि वह डिप्रैशन का शिकार हो गए हैं। डिप्रैशन से सिर्फ दिमाग ही नहीं शरीर भी कमजोर और बहुत बेजान महसूस करने लग जाता है।

2. फोकस न कर पाना
डिप्रैशन के कारण रोगी किसी भी काम की ओर बहुत ज्यादा ध्यान नहीं कर पाता। किसी भी तरह का कोई जरूरी निर्णय लेते समय उसे काफी परेशानी होती है। डिप्रैशन के चलते उसकी याददाश्त कमजोर हो जाती है और वह कोई भी निर्णय लेने में ज्यादा फोकस नहीं कर पाता।

3. नींद में गड़बड़ी
तनाव के कारण लोगों को नींद की समस्या भी बहुत झेलनी पड़ती है। डिप्रेशन के कारण कुछ लोगों को रात भर नींद नहीं आती औऱ कई इतनी थकावट महसूस करते हैं कि जरूरत से ज्यादा भी सोने लगते है।

4. दर्द महसूस करना
डिप्रेशन के कारण मरीज को शरीर के अलग-अलग हिस्सों में बहुत दर्द होने लगता है। सबसे ज्यादा उन्हें सिर, पेट, कमर और मासपेशियों में दर्द महसूस होता है। इस तरह व्यक्ति को दोनों तरफ से गंभीर परेशानी का सामना करना पड़ता है।

5. भूख कम लगना
इस समस्या में व्यक्ति की भूख भी मर जाती है उसका कुछ खाने-पीने को मन भी नहीं करता। थोड़ा-सा भी खाने के बाद उसे अचानक से घबराहट होने लग जाती है। डिप्रेशन के चलते कई बार उनका वजन बहुत ज्यादा बढ़ जाता है और कभी काफी कम भी होे जाता है जोकि एक बहुत बड़ी समस्या है।

6. थकान
दिमागी परेशानी के कारण व्यक्ति को बहुत ही थकावट महसूस होती है। लोगों से बात करके भी वह थक जाता है। जिस वजह से उसका न तो किसी से मिलने का मन करता है और न ही किसी से बात करने का।

7.गुस्सा
डिप्रेशन के कारण वह बहुत ज्यादा चिड़चिड़ा हो जाता है और छोटी-मोटी बात पर गुस्सा करने लगता है। हर बात पर नुक्स निकालना और झगड़ा करना उसकी आदत सी हो जाती है।