हाथ-पैरों में कंपकंपी होने के कारणों को भी जानना है जरूरी

क्या आपके हाथ या पैर पूरी तरह कांंपते हैं? क्या यह आपको तब होता है जब आप बहुत गुस्से में होते हैं? या यह किसी गंभीर बीमारी के होने की शुरुवात है। इसका कोई भी कारण हो सकता है। लेकिन अगर चिकित्सा विशेषज्ञों की भाषा में कहा जाए तो इसे “ट्रेमर” नाम से भी जाना जाता है। डॉक्टरों का अनुसार यह एक तरह का नर्वस डिसऑर्डर है जिसमें पहले हाथ पूरी तरह कापने लगते हैं, बाद में यह धीरे धीरे शरीर में फैलने लगती है। यही नहीं इससे कभी कभी आवाज भी पूरी तरह कपकपाने लगती है।

आपको बता दे की इस बीमारी में सबसे पहले हाथों पर ही गहरा असर होता है। मरीज़ का प्रतिरक्षा प्रणाली, दिमाग और नसें बहुत प्रभावित होती हैं, जिससे हाथ कापने लगते हैं। अगर आपके हाथ कापते हैं, तो हो सकता है आपको कोई गंभीर बीमारी ना हो। यह कभी कभी कुछ चीज़ों की कमी की वजह से भी होती है। विटामिन बी 12 की कमी से आपका तंत्रिका तंत्र अत्यधिक प्रभावित होता है, जिससे हाथ पूरी तरह कापने लगते हैं। इसलिए जरुरी है कि आप अंडे, मछली, और दूध से बनी चीज़ें खाएं।

ड्रग्स – वे सभी दवाएं खाना बंद कर दें। जिससे डोपामाइन नाम का रसायन दिमाग में बनना बंद हो जाता है। क्योंकि इससे भी हाथ में कपकपी होने लगती है।

डैमेज नर्व – हाथ और पैरों में इसलिए भी कपकपी आ सकती है, अगर आपको कोई चोट लगी हो, जिससे आपकी नसों को नुकसान हुआ है।

तनाव – आज की तनावपूर्ण जीवन शैली में जिन लोगों को बहुत गुस्सा आता है या जिनकी नींद नहीं पूरी होती हैं उन्हें ट्रेमर जैसी बीमारी होने का डर रहता है।

लो ब्लड शुगर – इससे शरीर में तनाव से लड़ने की छमता कम हो जाती है जिसे व्यक्ति के हाथ कापने लगते हैं।

यह भी पढ़ें:

नींद की गोली लेने से पहले जान लीजिए इन बातों को!

इन चीजों के सेवन से दूर हो जाती है खून की कमी!