दो माह के शिशु का बहुत जरूरी है ख्याल रखना

जब बच्चा छोटा होता है तो उसे बेहद केयर की आवश्यकता होती है। खासतौर से, छह माह से छोटा बच्चा तो पूरी तरह से अपने माता-पिता पर ही निर्भर होता है। ऐसे में उसकी केयर की पूरी जिम्मेदारी आपकी ही होती है। तो चलिए जानते हैं कि कैसे रखें छोटे बच्चों का ख्याल-

  • बच्चे के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए उनके सोने का समय निश्चित होना चाहिए। 9 से 12 घंटे की नींद उनके लिए आवश्यक होती है और साथ ही इससे उनका स्वास्थ्य भी बेहतर रहेगा और उनका विकास पूरी तरह हो पाएगा।
  • दूसरे महीने का बच्चा आपकी बातों पर प्रतिक्रिया देने लगता है और साथ ही अपने हाथ-पैर भी हिलाने लगता है। ऐसे में अगर आप अपने बच्चे से ज्यादा से ज्यादा बात करते हैं तो उनका विकास अच्छी तरह होगा और वो जल्दी बोलने लगेंगे।
  • दो महीने के बच्चे को अधिक भूख लगती है। ऐसे में वो अगर उन्हें भूख लगती है तो वो रोते हैं। तो आपको उनकी बात को समझने की जरूरत है और जब आपका बच्चा रोए तो आपको उन्हें फीड करवाने की जरूरत है। अगर आपके एक स्तन में दूध का उत्पादन कम होता है तो आपको अपने बच्चे को दोनों स्तन से स्तनपान करवाएं।
  • शिशु दूसरे महीने अधिक रोते हैं क्योंकि उनके नर्वस सिस्टम परिपक्व हो जाते हैं, उत्सुकता के कारण उत्तेजना होती है और अधिक थकान भी महसूस होती है। इसलिए, जब भी आपका बच्चा रोता है तो अपने बच्चे का खास ध्यान रखें और उनके पास रहें।