कोलेस्ट्रॉल कम करने में आता है बहुत काम, जानिए इस सुपर फूड का नाम

अलसी सुपर फूड है यह आधुनिक मेडिकल साइंस के अनुसार शाकाहारी खाद्य पदार्र्थों में अलसी ओमेगा 3 फैटी एसिड का सबसे बड़ा स्रोत भी है। यह हमारे शरीर के लिए आवश्यक फैटी एसिड है।

कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण

अलसी बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल (एक प्रकार की वसा) को नियंत्रित करने में भी बहुत सहायक है। गौरतलब है कि धमनियों (आर्टरीज) में कोलेस्ट्रॉल के जमने या संचित होने से हृदय रोग होने का खतरा बहुत ज्यादा बढ़ जाता है। अलसी बैड कोलेस्ट्रॉल (एलडीएल) को कम करती है और गुड कोलेस्ट्रॉल (एचडीएल) के स्तर को अवश्य बढ़ाती है।

ग्लूटन फ्री

अलसी ग्लूटन फ्री है। ग्लूटन फ्री का आशय है कि जिन लोगों को गेहूं या इससे निर्मित उत्पादों से एलर्जी है या जो गेहूं या इससे निर्मित उत्पादों को कभी नहीं खाना चाहते हैं, वे अलसी का सेवन कर सकते हैं।

कुछ खास गुण-

-अलसी में सॉल्युबल फाइबर होता है, जो हमारी आंतों के लिए लाभदायक होता है। साल्युबल फाइबर शरीर में कोलेस्ट्रॉल की अतिरिक्त मात्रा को भी कम करता है।

-इसमें कार्बोहाइड्रेट कम होता है, जबकि फाइबर ज्यादा होता है। इसलिए हाजमे को दुरुस्त रखने में भी यह मददगार है। अलसी वजन को भी नियंत्रित करने में भी सहायक है।

– अलसी में कई एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं। ये एंटीऑक्सीडेंट्स शरीर के हार्मोन को नियंत्रित करते हैं और कोशिकाओं को स्वस्थ रखने में सहायक हैं।

– इसमें मैग्नीशियम भी पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। मैग्नीशियम शरीर के समस्त अंगों के सुचारु संचालन में सहायक है, जैसे हार्ट फंक्शन और नव्र्स फंक्शन आदि में।

-जिन महिलाओं में रजोनिवृत्ति (मेनोपॉज) के लक्षण प्रकट हो रहे हों, उनके लिए अलसी के बीज का सेवन फायदेमंद होता है।