चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में झारखंड का जवान शहीद, परिवार का रो-रो कर बुरा हाल

लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में भारत के तीन जवान शहीद हो गए है। इसमें झारखंड के साहिबगंज जिला के डिहारी गांव के रहने वाले कुंदन कांत ओझा का नाम भी शामिल है। जैसे ही कुंदन के शहीद होने की खबर उनके परिवार को मिली तो पूरे गांव में कोहराम मच गया। हालांकि, कुंदन के अलावा अन्य दो शहीदों की पहचान उजागर नहीं हो पाई है। बता दे 45 वर्षों में चीन के साथ झड़प में शहादत की यह पहली घटना है।

सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि 1975 में अरुणाचल प्रदेश में तुलुंग ला में हुए संघर्ष में चार भारतीय जवान शहीद हुए थे। सेना ने बताया कि सोमवार रात चीनी सेना के साथ हुई झड़प में भारतीय सेना का एक अधिकारी और दो जवान शहीद हो गए। घटना में शहीद हुए भारतीय सेना के अधिकारी गलवान में एक बटालियन के कमांडिंग अफसर थे। वही भारत ने भी चीन के पांच सैनिको को मार गिराने की बात कही है। लेकिन चीन ने संख्या स्पष्ट नहीं की है।

दोनों देशों के बीच चल रहे सीमा तनाव को कम करने के लिए सैन्य और राजनैतिक दोनों स्तर पर कई बार बातचीत हो चुकी है। लेह स्थित 14वीं कोर के जनरल कमांडिंग ऑफिसर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह और तिब्बत सैन्य जिले के मेजर जनरल लीयू लिन ने 6 जून को करीब सात घंटे तक बैठक की थी। इस बैठक के बाद मेजर जनरल स्तर की दो दौर की वार्ता हुई। भारत, चीनी सेना को उस क्षेत्र से वापस भेजना चाहता है, जिसे वह अपना मानता है।

यह भी पढ़े: चीन ने मानी अपने सैनिकों के मरने की बात, भारतीय सेना ने की शांति से मामला सुलझाने की अपील
यह भी पढ़े: अमेरिका ने भारत को डोनेट किये 100 वेंटिलेटर्स, डोनाल्ड ट्रंप ने पिछले महीने किया था एलान