एप्पल, एमेजॉन, अलीबाबा और पेप्सी को पीछे छोड़ जियो बना दुनिया का पांचवां स्ट्रॉंगेस्ट ब्रांड

ब्रांड फाइनेंस ग्लोबल 500 की लिस्ट में पहली बार शामिल हुए रिलायंस जियो ने भारी उलट फेर करते हुए 5वीं रैंकिंग हासिल की है। ब्रांड फाइनेंस ग्लोबल 500 की लिस्ट में, दुनिया के सबसे मजबूत ब्रांड्स की रैंकिंग की जाती है। एप्पल, एमेजॉन, अलीबाबा और पेप्सी जैसी दिग्गज कंपनियों को रिलायंस जियो ने पीछ छोड़ दिया है। दुनिया के सबसे मजबूत पहले 10 ब्रांड्स में रिलायंस जियो भारत से अकेला नाम है। ब्रॉंड की मजबूती के मामले में रिलायंस जियो ने 100 में से 91.7 ब्रांड स्ट्रेंथ इंडेक्स (BSI) अंक और AAA+ की रैकिंग हासिल की हैं।

इसके अलावा रिपोर्ट में कहा गया है कि जियो टेलिकॉम सेक्टर में ब्रांड वैल्यू के लिहाज से सबसे तेजी से बढ़ने वाला ब्रांड है, जहां पूरे उद्योग में नकारात्मक वृद्धि देखी जा रही है वहीं जियो का ब्रांड वैल्यू 4.8 बिलियन डॉलर हो गया है।

2016 में जियो ने भारतीय टेलीकॉम सेक्टर में एंट्री की थी। 40 करोड़ से अधिक ग्राहकों के साथ आज रिलायंस जियो भारत का सबसे बड़ा और दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा मोबाइल नेटवर्क ऑपरेटर बन चुका है। रिपोर्ट में कहा गया है कि जियो ने भारतीय बाजारों में करोड़ों उपभोक्ताओं तक किफायती 4जी नेटवर्क को पहुंचाया। जियो ने भारतीयों की डेटा इस्तेमाल करने की आदत को पूरी तरह बदल डाला। भारतीय ग्राहकों की डेटा खपत में आए क्रांतिकारी बदलाव को “जियो इफेक्ट” कहा जाता है।

विचारों का सटीक रूपांतरण, ब्रांड प्रतिष्ठा, ब्रांड की सिफारिश, नवाचार, ग्राहक सेवा और किफायत जैसे सभी मानदंडो पर जियो ने अपने प्रतिद्वंदियों की तुलना में बेहतरीन अंक हासिल किए हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि रिलायंस जियो ब्रांड में कोई कमी या कमजोरी नही दिखाई देती। जियो ने वैश्विक स्तर पर कई परिपाटियों को तोड़ा है और उसे अपने ग्राहकों का भरपूर समर्थन मिल रहा है।

ब्रांड फाइनेंस द्वारा घोषित सबसे मजबूत ब्रांड WeChat है जिसनें 100 में से 95.4 का ब्रांड स्ट्रेंथ इंडेक्स (BSI) स्कोर हासिल किया है। ऑटो दिग्गज फेरारी ने दूसरा स्थान प्राप्त किया, रूसी बैंक Sber और कोका-कोला दुनिया में तीसरे और चौथे सबसे मजबूत ब्रांड है।

यह भी पढ़ें:

किसान नेताओं के खिलाफ एक और बड़ी करवाई, पासपोर्ट जमा करने के आदेश