कैलाश चौधरी की दो टूक, केंद्र की बिल वापसी की मंशा नहीं, कुछ जोड़ना संभव

कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब और हरियाणा के किसानों का आंदोलन 19वे दिन अनवरत जारी हैं। इसी बीच केंद्र सरकार में कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने किसानों से सरकार के साथ बातचीत करने की अपील की हैं। उनका कहना है कि किसान सरकार के साथ बैठे और बिल संबंधी कानूनों से संबंधित मुद्दों को हल करें। साथ ही उन्होंने कृषि कानूनों को लेकर केंद्र सरकार की मंशा को साफ करते हुए कहा कि केंद्र सरकार की मंशा बिल में संसोधन करने की नहीं हैं।

उन्होंने कहा यदि किसान बिल में कुछ जोड़ना चाहते हैं तो इसकी संभावना हैं, लेकिन यह पूरी तरह से हां या नहीं हो सकता हैं। इसलिए एक साथ बैठने से समाधान होता हैं। वहीं दूसरी तरफ किसान नेताओं ने केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ सोमवार को एक दिवसीय भूख हड़ताल शुरू कर दी हैं। किआनों का कहना हैं कि सभी जिला मुख्यालयों में प्रदर्शन होगा। दिल्ली सीएम केजरीवाल भी सोमवार को एक दिवसीय भूख हड़ताल पर रहेंगे और विरोध जताएंगे।

सीएम केजरीवाल ने केंद्र सरकार से अहम त्यागने और कानूनों को रद्द करने की अपील की हैं। सोमवार को किसानों का देश के सभी जिला मुख्यालयों में धरना देने का कार्यक्रम है। जिसे देखते हुए राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने शहर की सीमाओं पर सुरक्षा बढ़ा दी है।

यह भी पढ़े: किसान संगठनों ने तेज किया अपना आंदोलन, भूख हड़ताल पर बैठे
यह भी पढ़े: अब नाखून से जाने अपने स्वास्थ्य के बारे में