कैंसास : गर्भपात समर्थक समूहों के लिए बड़ी जीत

अमेरिका के रूढ़िवादी राज्य कंसास ने गर्भपात के अधिकारों की रक्षा के लिए एक जनमत संग्रह में एक आश्चर्यजनक कदम उठाया है जो कि गर्भपात समर्थक समूहों के लिए एक बड़ी जीत है। बीबीसी ने बुधवार को यह जानकारी दी। मतदाताओं ने भारी उत्साह के साथ मतदान किया कि वे राज्य के संविधान में संशोधन नहीं करना चाहते हैं ताकि यह दावा किया जा सके कि गर्भपात का कोई अधिकार नहीं है।

अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट की ओर से राज्यों को ग्रभपात कराने की प्रक्रिया पर प्रतिबंध लगाने की अनुमति दिये जाने के बाद जनमत संग्रह कराये जाने का यह पहला मामला है। इस चुनाव में परिणाम अगर उल्टा होता तो कानूनविद राज्य में गर्भपात को प्रतिबंधित करने के लिए आगे बढ़ सकते थे।

मिशिगन, एरिज़ोना, मिसौरी और उत्तर-पश्चिमी राज्य वाशिंगटन में भी मंगलवार को चुनाव हुए। करीब दो माह पहले सुप्रीम कोर्ट ने रो वी वेड, 1973 के फैसले को उलट दिया था जिसमें गर्भपात को वैध कर दिया गया था। अनुमानों से पता चलता है कि महिलाओं के गर्भपात के लिए राज्य के संवैधानिक अधिकार को बनाए रखने के लिए कैंसास ने 60 प्रतिशत से अधिक मतदान किया।

परिणाम को आठ नवंबर को राष्ट्रव्यापी मध्यावधि चुनाव से पहले मुद्दे की प्रतिध्वनि के एक मापक के रूप में देखा जाएगा, जिसमें डेमोक्रेट कांग्रेस पर नियंत्रण बनाए रखने के लिए लड़ रहे हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा,“ परिणाम से पता चलता है कि ‘अधिकांश अमेरिकी इस बात से सहमत हैं कि महिलाओं को गर्भपात का अधिकार होना चाहिए।”

यह भी पढ़े: न्यूजीलैंड ने जारी की पहली जलवायु अनुकूलन योजना