संगीत की दुनिया का नायाब हीरा थे खय्याम हाशमी, 92वीं जन्मतिथि पर जानें कुछ खास

भारतीय सिनेमा के मशहूर संगीतकार मोहम्मद जहूर खय्याम हाशमी की आज 92वीं जन्मतिथि हैं। 18 फरवरी 1927 को पंजाब के जालंधर जिले के नवाब शहर में जन्मे खय्याम ने 92 की उम्र में दुनिया को अलविदा कहा था। आज से करीब दो साल पहले अगस्त 2019 में उनका मुंबई के सुजॉय अस्पताल में निधन हुआ था। उस समय वे फेफड़ों में इंफेक्शन की समस्या से पीड़ित थे। खय्याम साहब को बॉलीवुड में संगीत की दुनिया का नायाब हीरा माना जाता था।

अपनी यादगार धुनों से अनगिनत गीतों को अमर बना गए खय्याम साहब के अप्रतिम योगदान के लिए फिल्म और कला जगत हमेशा उनका ऋणी रहेगा। उन्होंने अपने संगीत करियर की शुरुआत एक गायक के रूप में साल 1947 में फिल्‍म रोमियो एंड जूलियट से की थी। और इसके बाद उन्‍होंने कई फिल्‍मों में अपने बेहतरीन गायकी, संगीत निर्देशन और गीत लेखन से सबका दिल जीता। उनकी सूंदर रचनाओं में ‘अपने आप रातों में’ गीत बेहद पसंद किया जाता है।

खय्याम साहब ‘मीर तकी मिर’ जैसे महान शायर की शायरी को फिल्मों में लेकर आए। खय्याम साहब का संगीत दिल को छू जाता था। राग पहाड़ी उनका पसंदीदा राग हुआ करता था। लाहौर में प्रसिद्ध बाबा चिश्ती से संगीत शिक्षा लेने वाले खय्याम साहब प्रसिद्द गायिका उर्फ स्वर कोकिला लता मंगेशकर को अपनी छोटी बहन मानते थे। खुद लता जी ने एक बार कहा था कि खय्याम साहब काम में बड़े परफेक्शनिस्ट थे और उनकी शायरी समझ बहुत कमाल थी।

यह भी पढ़े: 101 साल पहले आज ही के दिन खोजा गया था ‘प्लूटो’ ग्रह, जानें क्यों कहा गया बौना
यह भी पढ़े: राहुल गांधी को नहीं पता फिशरीज के लिए अलग विभाग है: केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह