किसान आंदोलन: दिल्ली के बॉर्डर पर बैठे किसानों ने शुरू किया अपना टेंट हटाना

किसान परेड में हुई भारी हिंसा के बाद कई किसान संगठनों ने खुद को इस आंदोलन से अलग कर लिया है। खबरों के मुताबिक किसानों ने चिल्ला बॉर्डर से अपने टेंट और सामान उठाने शुरू कर दिए हैं।

भारतीय किसान यूनियन (भानू) के अध्यक्ष ठाकुर भानु प्रताप सिंह ने किसान आंदोलन से अलग होने और आंदोलन खत्म करने की घोषणा कर दी है। इसके कुछ ही देर बाद चिल्ला बॉर्डर पर बैठे किसानों को अपना टेंट उतारते देखा गया। ये संगठन किसानों के ट्रैक्टर रैली के दौरान हिंसा के विरोध में प्रदर्शन को समाप्त कर रहा है।

किसान मजदूर संगठन के नेता वीएम सिंह ने कहा कि हम लोगों को पिटवाने के लिए यहां नहीं आए हैं। देश को हम बदनाम नहीं करना चाहते हैं। वीएम सिंह ने राकेश टिकैत पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि राकेश टिकैत ने एक भी मीटिंग में गन्ना किसानों की मांग नहीं उठाई।

वहीं किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि पुलिस का किसानों पर लाठीचार्ज करने का प्लान था। सरकार और पुलिस सारे घटनाक्रम के लिए जिम्मेदार है।

यह भी पढ़ें:

दो बार चुनाव लड़ चुके हैं किसान नेता राकेश टिकैत, दोनों बार मिली हार