जानिए खाने में हो रही मिलावट के बारे में

हमारी रोजाना खाने-पीने की बहुत सी चीजों में मिलावट पाई जाती है जो हमारी सेहत को बहुत हानि पहुंचाती है। यह एक तरह से धीरे-धीरे दी जाने वाले जहर के सामान ही है जो अंत में व्यक्ति की जान ही ले लेता है। इसके इलावा शरीर के अंदरूनी अंगों पर भी इसका बहुत ही बुरा असर पड़ता है। ज्यादा पैसे कमाने के चक्कर में दुकानदार अपने सामान में बहुत ज्यादा मिलावट करते हैं और लोगों की जिंदगी से खिलवाड़ भी करते हैं। ऐसी मिलावटी चीजें खाने से पेट से संबंधित गंभीर बीमारियां अल्सर, ट्यूमर आदि होने का बहुत ज्यादा खतरा रहता है। लेकिन कुछ तरीके अपनाकर घर पर ही खाने वाली चीजों में मिलावट का आसानी से पता लगाया जा सकता है।

लाल मिर्च
सब्जियों में इस्तेमाल होने वाली लाल मिर्च पाऊडर में ईंट का चुरा भी डाला जाता है जो देखने में लाल रंग का ही होता है। एक ही रंग का होने के कारण लोग इसे ठीक तरह से पहचान नहीं पाते और ऐसे ही इसका इस्तेमाल कर लेते हैं। इसकी पहचान करने के लिए मिर्च पाऊडर को पानी के गिलास में डालें अगर यह रंग छोड़े तो समझे इसमें मिलावट है।

दूध में मिलावट
दूध जिसे सेहत के लिए बहुत ही ज्यादा बढ़िया माना जाता है। बच्चे हो या बूूढ़े सभी के लिए दूध बहुत ज्यादा फायदेमंद होता है। दूध में मिलावट के लिए इसमें डिटर्जेंट और सिंथेटिक मिल्क खूब मिलाया जाता है, जिससे 1 लीटर दूध को 10 लीटर तक बनाया जा सकता है। इसकी पहचान करने के लिए 10 लीटर दूध में उतना ही पानी मिलाना चाहिए अगर झाग बने तो समझिये इसमें डिटर्जेंट है।

शहद
शुद्ध शहद से भीगी हुई कपास की बत्ती को आग लगाने से यह तुरंत ही जल जाती है। दूसरी तरफ मिलावटी शहद में भीगी बत्ती उतनी आसानी से नहीं जलेगी औऱ इसमें से चटचट की आवाजें भी आने लगेंगी।

खोया और पनीर
खोए का इस्तेमाल ज्यादातर मिठाइयां बनाने के लिए ही किया जाता है और पनीर से तो बहुत-सी सब्जियां बनाई जाती हैं। इसमें मिलावट पता करने के लिए खोए या पनीर को थोड़े पानी में डालकर उबालें। फिर ठंडा होने पर इसमें नमक के घोल की कुछ बूंदे डालें, अगर यह नीला रंग छोड़े तो समझें कि इसमें भी मिलावट हुई है।

जीरा
सब्जियों में इस्तेमाल होने वाले जीरे में भी बहुत ज्यादा मिलावट पाई जाती है। जीरे के कुछ दानों को अपने हाथों में रगड़ें। रगड़ने के बाद अगर जीरा काला हो जाए तो समझिये यह मिलावटी है।

सेब
डॉक्टरों के अनुसार रोज एक सेब खाने से शरीर बहुत सी बीमारियों से दूर रहता है लेकिन जब सेब में ही मिलावट हो तो क्या करें। चमकदार लाल रंग के सेब देखकर मुंह में पानी तो भर आता है लेकिन इस चमकदार सेब पर वैक्स पॉलिश की जाती है। इसका पता लगाने के लिए सेब की ऊपरी परत को चाकू से हल्का खुरचिए, अगर सफेद पदार्थ निकले तो इसमें मोम वैक्स की परत ज्यादा चढ़ी है।

चाय पत्ती
कई लोग बाजार से खुली चाय पत्ती ले आते हैं जोकि बढ़िया पत्ती से थोड़ी ज्यादा सस्ती होती है। इसमें भी मिलावट होे सकती है। पत्ती कोे ठंडे पानी में डालकर कुछ देर के लिए छोड़ दें अगर यह रंग छोड़े तो समझो कि इसको पहले भी इसका इस्तेमाल किया जा चुका है।

यह भी पढ़ें-

चीकू क्यों है सेहत के लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद, जानिए