जानिये लिपस्टिक में पाए जाने वाले धातुओं के बारे में जो हो सकते हैं हमारे स्वास्थ के लिए हानिकारक

Close-up of beautiful chubby female lips with white teeth and red lipstick

अगर आप लगातार लिपस्टिक का इस्तेमाल करते हैं तो इससे होने वाले साइड इफैक्ट्स भी जान लें।

किडनी फेल: लिपस्टिक बनाने में सीसा, कैडमियम, मैग्नीशियम क्रोमियम और एल्यूमिनियम जैसे धातुओं का इस्तेमाल किया जाता है जो खतरनाक बीमारियों के लिए जिम्मेदार हैं। यहीं नहीं, यह शरीर के अंदरूनी अंगों को पूरी तरह से डेमेज भी कर सकती है। इसमें काफी मात्रा में कैडमियम पाया जाता हैं, जिससे गुर्दे के खराब होने के खतरा बढ़ जाता है। यह पेट के ट्यूमर का कारण भी बन सकते हैं।

कैंसर का खतरा: लिपस्टिक में काफी मात्रा में सीसे का इस्तेमाल किया जाता हैं जो कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी के खतरे को बढ़ा सकता हैं। इससे महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर का खतरा भी बढ़ जाता है। साथ ही यह शरीर में पहुंचकर रोगों से लड़ने की प्रतिरोधक क्षमता को कम कर देता है। तंत्रिका तंत्र इससे महिलाओं की शैक्षणिक व याद रखने की क्षमता कम हो जाती है। उनके स्वभाव में चिड़चिड़ापन और झगड़ालू प्रवृति आ जाती है। सीसे में न्यूरोटॉक्सिन नामक तत्व पाया जाता हैं जो कि नर्वस सिस्टम पर बुरा प्रभाव डालता है। इससे ब्रेन डेमेज, हार्मोनल असंतुलन और बांझपन जैसी परेशानियां भी हो सकती हैं।

त्वचा के लिए हानिकारक: लिपस्टिक में इस्तेमाल किए गए अन्य कैमिकल्स आपकी सेंसटिव स्किन को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इससे स्किन और आंखों में जलन, एलर्जी, शरीर में जकड़न और गले में खराश जैसी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इसमें इस्तेमाल किए गए मिनरल्स ऑयल्स से त्वचा के रोम छिद्र बंद हो सकते हैं।

स्नायु तंत्र प्रभावित: इसमें मौजूद मैग्नीशियम भी भारी मात्रा शरीर में चला जाता है। लंबे समय तक अधिक मात्रा में मैग्नीशियम शरीर में जाने से यह आपके स्नायु तंत्र (nerve fibers) को प्रभावित कर सकता है।