जानिए इस योग के बारे में जो अवसाद से लड़ने में बहुत मदद करता है

अवसाद के विकार को दूर करने में योग या प्राणायाम के  इस्तेमाल की जरूरत रेखांकित होती है जो अवसाद दूर करने वाली दवाएं नहीं लेते और वे लोग  भी जो स्थाई रूप से इस तरह की दवाओं की खुराक लेते हैं एवं जिनमें अवसाद के लक्षण अब  भी बने हुए हैं।

आज हम आपको तनाव दूर करने के लिए कुछ खास तरह के योगासन के बारे में बता रहे हैं, जिनको करने से आप खुद को तनावमुक्त और तरोताजा महसूस करेंगे। तो आइए आज आपको पांच खास योगासन के बारे में बताते हैं।।।

1.पद्मासन
आपको यह योगासन तनाव को दूर करने के लिए करना है, इसलिए सबसे पहले एकाग्र होना पड़ेगा। आज की तनाव भरी जिंदगी में मनुष्य के मन में ऑफिस और घर की समस्याओं के अलावा दिन में हुई छोटी बड़ी बातें गूंजती रहती हैं। इसकी वजह से दिमाग में तनाव रहता है। इसके लिए आपको पद्मासन करना होगा।

कैसे करें
पद्मासन में सबसे पहले बाएं पैर को दाईं जांघ पर रखें और फिर दाएं पैर को बाईं जांघ पर रखें। अगर आप इस पोज़िशन में सहज न महसूस करें तो पैरों को हल्का मोड़कर भी बैठ सकते हैं, लेकिन पीठ सीधी रखें, ताकि आपका दिमाग़ सचेत रहे। आंखें मूंदकर अपनी सांस पर ध्यान लगाने की कोशिश करें। नाक से सांस लें और नैसर्गिक सांस लेने की क्रिया को अपनाएं। अगर ध्यान लगाने में अब भी मुश्क़िल हो तो रिलैक्सेशन म्यूजिक लगा लें। यह योग कहीं भी और कभी भी किया जा सकता है।

2. वज्रासन
यह मुद्रा आपकी गर्दन, सिर और कंधों के तनाव को ख़त्म करेगी। यह अपचन, एसिडिटी, सुस्ती जैसी समस्याओं को दुरुस्त करता है, जिससे दिमाग़ शांत होता है। यह शरीर में रक्तप्रवाह को बढ़ाता है और मन को शांति प्रदान करता है।

कैसे करें
वज्रासन में बैठें यानी दोनों पैरों को पीछे की ओर मोड़कर बैठ जाएं। दाएं हाथ को ज़मीन पर रखें और बाएं हाथ को सिर के ऊपर से विपरीत दिशा में ले जाकर हल्का स्ट्रेच करें। अब बाएं हाथ को ज़मीन पर रखें और दाएं हाथ को सिर के ऊपर से विपरीत दिशा में स्ट्रेच करें। यह प्रक्रिया 10-15 बार दोहराएं।

3.प्रसारिता पादोत्तासन
इस आसान से दिमाग़ तक अतिरिक्त रक्तप्रवाह होता है, जिससे उसकी कोशिकाएं सक्रिय हो जाती हैं। तनाव और ऐंग्ज़ाइटी को मिनटों में भगाने के लिए यह मुद्रा सबसे उपयुक्त है। यह एक अलग स्तर की शांति प्रदान करता है, जिससे आपका मन रिलैक्स हो जाता है।

कैसे करें
इस आसन में पैरों को बराबर में फैला लें और हाथों को कूल्हों पर रखें। सांस लेते हुए हाथों को ऊपर उठाएं और सांस छोड़ते हुए सामने की ओर कमर से झुकें। अब कुहनियों को ज़मीन पर टिकाएं, कंधों को सीधा रखें और उंगलियों को आपस में अटका लें। अब सिर को ज़मीन पर रखें। यदि सिर ज़मीन तक पहुंच नहीं पा रहा तो योग ब्लॉक का इस्तेमाल कर उस पर सिर टिका सकते हैं। इसी मुद्रा में 10 बार सांस लें और छोड़ें। अब सांस लेते हुए सीधे खड़े हो जाएं और हाथों को कमर पर रखें।

4. उत्तानासन
दिमाग़ को मिनटों में शांत और एकाग्र करने में यह आसन मददगार है। यदि हाल ही में आप डिप्रेशन की गिरफ़्त में आए हैं, तो भी यह आसन नियमित रूप से करने से जल्द ही राहत मिलेगी।

कैसे करें
पैरों को एक साथ ले आएं और उन्हें सीधा रखें। सांस लेते हुए हाथों को ऊपर करें और सांस छोड़ते समय हाथों को नीचे की ओर ले जाएं। हथेलियों को ज़मीन पर रखें। यदि हथेलियां ज़मीन तक नहीं पहुंच रही हों तो एड़ियों को भी पकड़ सकते हैं या उन्हें स्पर्श कर सकते हैं। इस पूरी मुद्रा के दौरान पैरों को मोड़ें या झुकाए नहीं। कुछ सेकेंड्स या 10 बार सांस लेने और छोड़ने तक पोज़िशन को बनाए रखें। लंबी सांस लें और हाथों को ऊपर उठाएं और रिलैक्स हो जाएं।

यह भी पढे-

कच्चा केला खाने के ये फायदे जानकर हैरान हो जाएंगे आप