करेला खाने के सभी फायदों के बारे में, जानिए

करेले खाने का सही तरीका ये हैं कि करेले का छिलका कभी भी नहीं उतारना चाहिए, जो हम अकसर उतराते है और उसका कड़वा रस भी नहीं निकालना चाहिए। 10 से 15 दिन में एक बार करेला खाना सेहत के लिए बहुत ही अच्छा है।

करेला के फायदे –

लीवर संबंधी बीमारियों में करेला काफी फायेमंद है।

करेला खून साफ करता है और हीमोग्लोबिन बढ़ाता है।

करेला पाचन शक्ति को दुरुस्त करता है जिससे भूख बढ़ती है।

दमा के मरीज को बिना मसाले की छौंकी हुई करेले की सब्जी खिलानी चाहिए।

करेले के रस को नींबू के रस के साथ पानी में मिलाकर पीने से वजन कम होता है।

करेले ठंडा होता है, इसलिए यह गर्मी से पैदा हुई बीमारियों के उपचार के लिए फायदेमंद है।

लकवा के मरीजों के लिए करेला बहुत फायदेमंद होता है। उन्हें कच्चा करेला खिलाना चाहिए।

कफ होने पर करेले का सेवन करना चाहिए। करेले में फास्फोरस होता है जिससे कफ दूर होता है।

मधुमेह यानि डायबिटीज के लिए तो करेला रामबाण इलाज है। इससे शुगर लेवल नियंत्रित रहता है।

पीलिया के रोगियों के लिए भी करेला बहुत फायदेमंद है। उन्हें पानी में करेला पीसकर खाना चाहिए।

जलोदर रोग होने पर आधा कप पानी में 2 चम्मच करेले का रस मिलाकर रोजाना तीन-चार बार पिएं, कुछ ही समय में बहुत फायदा दिखाई देगा।

बवासीर होने पर एक चम्मच करेले के रस में आधा चम्मच शक्कर मिलाकर एक महीने तक खाएं, फायदा होगा।

गठिया रोग होने या हाथ-पैर में जलन होने पर करेले के रस से मालिश करना चाहिए। इससे बहुत आराम मिलेगा।

उल्टी, दस्त या हैजा होने पर करेले के रस में थोड़ा पानी और काला नमक डालकर पीने से बहुत फायदा होता है।

यह भी पढ़ें-

ये उपाए बच्चो का वजन बढ़ाने में बहुत लाभकारी है, जानिए