अपने कान के बारे में कुछ दिलचस्प बातें जानिए

कान के कारण ही हम तरह-तरह ही ध्वनियों को सुन पाते हैं लेकिन कान हमारे शरीर का जितना सेंसेटिव पार्ट है, उतना भी वह दिलचस्प अंग भी है।

जब हम सो रहे होते है तब भी हमारा कान सुनता रहता है बस उस समय हमारा दिमाग बाहर से आने वाली आवाजं पर ध्यान नहीं देता है।

हमारा कान हमारे गले से यूस्टेचियन नलिका के ज़रिए जुड़ा होता है।

हमारा कान अपने आप अंदर के वैक्स को बाहर निकाल देता है | हमें इसे निकालने की जरूरत नहीं पड़ती है।

हमारे कान के बाहरी हिस्सा सिर्फ कान के पर्दे तक ही होता है जिसका काम ध्वनि को प्राप्त कर के कान के अंदर के हिस्से तक पहुचाना होता है |

उँचाई पर हमारे कान की यूस्टेचियन नलिका दाब को संतुलित नहीं कर पाती जिसकी वजह से कान में दर्द होने लगता है।

त्वचा के लिए हरी मिर्च में उपस्थित विटामिन होता है फायदेमंद