बैंगन खाने के कुछ चमत्कारी गुण, जानिए

बैगन एक बहुत ही महत्वपूर्ण सब्जी है| बैंगन की प्रकृति गर्म और खुश्क होती है। बैंगन अनेक बीमारियों में लाभदायक है। वहीं बैंगन खाने के बहुत कुछ नुकसान भी हैं। आइए जानते हैं बैंगन से होने वाले नुकसान और फायदे।

गैस- अगर पेट में गैस बनती हो, पानी पीने के बाद पेट इस प्रकार फूलता हो, जैसे फुटबाल में हवा भर जाती है। ऐसे में ताजा लंबे बैंगन की सब्जी, जब तक मौसम में बैंगन आता रहे आप खाते रहें। इससे गैस की बीमारी बहुत दूर हो जाएगी। इससे लीवर तिल्ली बढ़ी हुई हो तो उसमें भी बहुत आराम होता है।

हाथ पैरों में पसीना- बैंगन का रस निकालकर हथेलियों और पगतलियों पर लगाने से पसीना निकलना विल्कुल बंद हो जाता है।

चोट का दर्द- बैंगन को सेककर, पीसकर कपड़े में इसकी चटनी डालकर निचोड़कर रस निकालकर चौथाई कप रस में स्वादानुसार गुड़ मिलाकर नित्यादो बार पीने से चोट के दर्द में बहुत आराम होता है।

ह्रदय- यह ह्रदय को बहुत शक्ति प्रदान करता है।

बवासीर- बैंगन का दांड (वह हिस्सा जिसमें बैंगन जुड़ा रहता है) को पीसकर बवासीर पर लेप करने से दर्द और जलन में बहुत आराम मिलता है। बैंगन का दांड और छिलके सुखा लें और फिर इनको कूट लें। जलते हुए कोयलों पर डालकर मस्से को धूनी दें। बैंगन को जला लें। इसकी राख शहद में मिलाकर मरहम बना लें। इसे मस्सों पर लगाने से मस्से सूखकर गिर जाएंगे।

हानि- किसी भी प्रकार के ज्वर के समय बैंगन न खाएं। बैंगन गर्म बहुत होता है। अत: बवासीर व अनिद्रा के रोगी बैंगन कभी न खाएं। बैंगन लंबे समय तक सेवन कभी भी न करें।

यह भी पढ़ें-

सेहत के लिए लच्छा पालक पराठा होता है फायदेमंद, जानिए बनाने की सबसे आसान विधि