जानिये शीघ्रपतन की समस्या से बचने के उपाय

यौन सम्बन्ध स्थापित करने के तुरंत बाद अनियंत्रित तरीके से वीर्य का स्खलित हो जाना शीघ्रपतन है अथवा प्री मैच्यूर एजेकुलेशन है। शीघ्रपतन की समस्या यौन जीवन पर बहुत ही नकरात्मक प्रभाव डालती है तथा इसका बुरा असर पुरुष और उसकी महिला साथी दोनों पर पड़ता है। ध्यान रखने वाली बात है कि शीघ्रपतन का प्रभाव प्रजनन पर नहीं पड़ता है।
इससे पुरुषों में मानसिक तनाव बढ़ने लगता है।

शीघ्रपतन की समस्या से बचने के उपाय:-

ज्यादातर मामलों में शीघ्रपतन की समस्या मनोवैज्ञानिक कारणों से होती है और इन कारणों से होने वाली शीघ्रपतन की समस्या आसानी से बिना किसी उपचार के महज जीवनशैली में बदलाव कर के ठीक की जा सकती है। इसके लिए कुछ खास बातों का ध्यान रखना पड़ता है।

एल्कोहल को पूरी तरह से त्याग देना या कम उपभोग करना।
तम्बाकू और अनुचित दवाओं का सेवन बंद करना।
चरमोत्कर्ष पर पहुंचने से पहले कुछ देर के लिए रुक जाना।
उत्तेजना(सेंसेशन) पर नियंत्रण के लिए मोटे परत वाले निरोध(कंडोम) का इस्तेमाल करना।
यौन सम्बन्ध बनाने से पहले हस्तमैथुन करना।
यौन सम्बन्ध स्थापित करने से पहले 15 मिनट फोरप्ले करना।

अन्य उपाय – हरे प्याज के बीजों को पीस कर पानी में अच्छे से मिला लें। इस मिश्रण का सेवन खाना खाने से पहले रोजाना दिन में तीन बार करें। इससे शीघ्रपतन की समस्या को दूर किया जा सकता है।