जानिए पूर्व भारतीय कप्तान धोनी के रिटायरमेंट पर BCCI ने क्या कहा

सौरव गांगुली ने BCCI की तरफ से बयान जारी करते हुए कहा कि, “ये एक युग का अंत है। वे भारत और विश्व कप क्रिकेट के लिए क्या शानदार खिलाड़ी रहे। उनकी कप्तानी की क्षमता एक दम अलग थी, जिसकी बराबरी करना खासकर क्रिकेट के छोटे फॉर्मेट में बहुत मुश्किल होगा।” उन्होंने कहा कि, “शुरुआती करियर के वनडे में उनकी बल्लेबाजी ने हर किसी को रोमांचित किया। हर अच्छे चीज का अंत होता है और ये बिल्कुल शानदार रहा है। उन्होंने भविष्य मे आने वाले विकेटकीपरों के आने और देश के लिए पहचान बनाने के लिए मानक तय किए हैं। वो मैदान पर बिना किसी मलाल के अलविदा कहेंगे। उनके जैसी नेतृत्व क्षमता मुश्किल से ही मिलती है। उनका एक शानदार करियर रहा। मैं उन्हें अपनी शुभकामनाएं देता हूं।”

महेंद्र सिंह धोनी के ही अगुआई मे भारत ने वर्ल्ड कप अपने नाम किया। उनके कप्तानी के सभी कायल थे। विकेटों के पीछे खड़े-खड़े ही उन्होने भारत को कई यादगार मैचों को भारत के नाम कराया है। उनके शांत स्वभाव के कारण ही उन्हें “कैप्टेन कूल” भी कहा जाता है। मैदान मे चाहे कितना भी प्रेशर रहे लेकिन वो हमेशा कूल माइंड से ही मैच का पासा पलट देने कि हिम्मत रखते थे।

धोनी ने 2004 में वनडे में पदार्पण किया था। बाद में वो विश्व क्रिकेट में सबसे सफल कप्तान बने। उनकी कप्तानी में ही भारत साल 2007 टी 20 विश्व कप में पाकिस्तान को हराकर चैंपियन बना। इसके चार साल बाद ही धोनी ने 2011 विश्व कप में भारत को चैंपियन बनाया। इसके दो साल बाद उनकी कप्तानी में भारतीय टीम ने इंग्लैंड में आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी भी जीती थी।