दूध पीना क्यों है आवश्यक, जानिए !

हमारे रोज के आहार में एक चीज ऐसी है जिसको सभी को आवश्यक रूप से अवश्य शामिल करना चाहिए। वो चीज है दूध। यह बच्चों के साथ-साथ सभी वर्गो के लिए बहुत ही आवश्यक है। दूध में विटमिन और मिनरल्स जैसे- कैल्शियम, फॉसफॉरस, सोडियम और पोटैशियम पाए जाते हैं। इसके अलावा दूध में लैक्टिक एसिड भी होता है, जो त्वचा को कोमल बनाता है। दूध को पीने से शरीर में सेरोटोनिन हार्मोन का स्राव होता है, जिससे दिमाग बहुत शांत रहता है।

दो साल के बच्चे दूध के साथ खाना भी खाने लगते है। एक सर्वे के मुताबिक 2-3 साल के बच्चों को चार कप और 4-8 साल के बच्चों को कम से कम पांच कप दूध रोजाना पीना चाहिए। साथ ही नौ साल से ज्यादा उम्र के बच्चों को तीन कप दूध रोजाना दें। लेकिन ऐसे बच्चे जिन्हें हाई कैलरी की जरूरत होती है तो उनके लिए दूध की मात्रा बढ़ा देनी चाहिए।

अतिरिक्त कैलरी कम करने के नाम पर बच्चों की दूध की मात्रा कम ना करें बल्कि उन्हें कम फैट वाला दूध दें। इससे वजन नहीं बढ़ता और हड्डियां मजबूत होती हैं। साथ ही एनर्जी भी मिलती है।

किस समय दूध पीने का होगा असर :

सुबह दूध नहीं पीना चाहिए क्योंकि यह पचाने में भारी होता है।

दोपहर में दूध पीने से बुजुर्गों को ताकत मिलती है।

शाम के दौरान दूध पीने से आंखों पर अच्छा असर पड़ता है।

रात को दूध पीना सबसे अच्छा माना जाता है क्योंकि इससे शरीर की थकान मिटती है और नींद अच्छी आती है।

दूध पीते वक्त रखें ख्याल :

जिन लोगों का पाचन कमजोर, कफ, पेट में कीड़े और हर वक्त पेट खराब रहता हो, उन्हें ज्यादा दूध से बचना चाहिए।

अगर आप ठंडे दूध का सेवन करते हैं, जरूरत से ज्यादा दूध पीते हैं या सही खाद्य पदार्थ के साथ दूध नहीं पीते तो यह सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है।

जिन लोगों को लैक्टोज इनटॉलरंस की समस्या है, उन्हें दूध नहीं पीना चाहिए।

दूध को कभी खाने के साथ नहीं पीना चाहिए क्योंकि यह जल्द हजम नहीं हो पाता। इसे हमेशा अलग से गरम कर के पीना चाहिए।

यह भी पढ़ें-

युवाओं में दिल का रोग हो सकता है मोटापा से !