Kovind के राष्ट्रपति बनने से दलित खुश लेकिन किसी का भला नहीं, उदित राज के ट्वीट पर भड़के लोग

राष्ट्रपति चुनाव (President Election 2022) को लेकर एक बार फिर सियासी बयानबाजी तेज हो गई है. कांग्रेस (Congress) के सीनियर नेता उदित राज (Udit Raj) ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के कार्यकाल को लेकर एक बार फिर सियासी तंज कसा है.

उदित राज ने ट्वीट किया, ‘जाति देखकर खुश न होना. कोविंद जी राष्ट्रपति बने तो दलित खुश हुए और भला एक चपरासी का नहीं कर पाए.’ उदित राज की यह टिप्पणी सोशल मीडिया पर लोगों को रास नहीं आई. उनके इस बयान पर सोशल मीडिया यूजर्स ने क्लास लगा दी है.

उदित राज अपने इस बयान पर बुरी तरह घिर गए हैं. एक यूजर ने उनकी क्लास लगाते हुए कहा कि सांसद तो आप भी बने थे लेकिन किसा भला हुआ है.

एक दूसरे यूजर ने कहा, ‘आप भी सांसद रहे थे जिंदगी में किसी का भला किया? सिर्फ दलितों को बदनाम करने के अलावा कुछ नहीं दिया.’
एक यूजर ने लिखा है कि तुझे किसने बोला है कि राष्ट्रपति चपरासीयों का भला करने के लिए बना जाता है.

देश की पहली आदिवासी राष्ट्रपति होंगी द्रौपदी मुर्मू!
देश के राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी की अगुवाई वाले नेशनल डेमोक्रैटिक अलायंस ने आदिवासी नेता द्रौपदी मुर्मू को अपना उम्मीदवार बना दिया है. अगर वह राष्ट्रपति बन जाती हैं तो वह देश के सर्वोच्च नागरिक के पद पर पहुंचने वाली पहली आदिवासी महिला होंगी. राष्ट्रपति चुनाव में उनका मुकाबला विपक्ष के उम्मीदवार और पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा से है.

यह भी पढ़ें:

अमेरिका ने नाटो के 12 सदस्य देशों को युद्ध सामग्री की बिक्री को मंजूरी दी