कुलदीप बिश्नोई ने भाजपा से मांगा सिर्फ सम्मान, अब पूर्व मंत्री संपत सिंह को लाने की तैयारी में कांग्रेस

हरियाणा के पूर्व कांग्रेस नेता कुलदीप बिश्नोई भाजपाई हो गए हैं। उनके भाजपा में शामिल होने के बाद तमाम कयास लग रहे हैं कि वह क्या पाने के लिए वहां गए हैं। लेकिन कुलदीप बिश्नोई का कहना है कि वह सिर्फ ‘मान सम्मान’ के लिए पार्टी में आए हैं। गुरुवार को केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और प्रदेश अध्यक्ष ओम प्रकाश धनखड़ की मौजूदगी में उन्होंने भाजपा की सदस्यता ली थी।

उनका कहना है कि वह सिर्फ मान सम्मान चाहते हैं। कुलदीप बिश्नोई ने पत्नी रेणुका और बड़ी संख्या में अपने समर्थकों के साथ भाजपा जॉइन की है। खासतौर पर बिश्नोई समाज के लोगों ने बड़ी संख्या में भाजपा जॉइन की है। माना जा रहा है कि इससे भाजपा को राजस्थान में भी मदद मिलेगी, जहां बिश्नोई समाज के लोगों की अच्छी खासी आबादी है।

इस मौके पर भाजपा नेता ओपी धनखड़ ने कहा कि कुलदीप बिश्नोई का लंबा अनुभव है और बड़ा सियासी कद है। उन्हें भाजपा में पूरा सम्मान दिया जाएगा। धनखड़ ने कहा कि कुलदीप बिश्नोई और उनके सहयोगियों को अनुभव के मुताबिक जिम्मेदारी दी जाएगी। कुलदीप बिश्नोई ने कहा कि मैं लंबे समय से भाजपा में आना चाहता था

लेकिन इसके बाद भी कांग्रेस को एक और मौका दिया। बिश्नोई ने कहा, ‘हम क्या कर सकते हैं यदि कांग्रेस खुद ही अपने को मिटाने के मूड में है।’ कुलदीप बिश्नोई हरियाणा जनहित पार्टी के मुखिया भी रहे हैं, जिसकी स्थापना उनके पिता भजनलाल ने की थी।

पूर्व मंत्री संपत सिंह होंगे कांग्रेस में शामिल, दीपेंदर भी थे साथ

कुलदीप बिश्नोई ने इस पार्टी का 2016 में विलय कर दिया था। बता दें कि भजन लाल हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री रहे हैं और राज्य की सियासत में फैमिली का बड़ा कद रहा है। इस बीच पूर्व मंत्री संपत सिंह ने कांग्रेस जॉइन करने का ऐलान किया है। गुरुवार को केसी वेणुगोपाल से दिल्ली में संपत सिंह ने मुलाकात की थी।

इस दौरान दीपेंदर सिंह हुड्डा भी उनके साथ थे। बता दें कि हरियाणा की सियासत में बीते कुछ वक्त से काफी हलचल देखने को मिली है। खुद कांग्रेस में ही बड़े बदलाव हुए हैं। शैलजा कुमारी को प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटाकर भूपिंदर सिंह हु़ड्डा के करीबी उदयभान को कमान दी गई है।

यह पढ़े: TRS के 12 विधायक देंगे इस्तीफा, BJP के इस दावे से तेलंगाना में सियासी हलचल तेज