चाईबासा कोषागार से अवैध निकासी मामले में लालू को आज भी नहीं मिली जमानत

राजद सुप्रीमो और पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद बहुचर्चित चारा घोटाला में सजायाफ़्ता है। इसके लिए उन्होने जमानत की अर्जी झारखंड हाईकोर्ट मे दी हुई है। उसी जमानत अर्जी पर आज सुनवाई हुई। हाईकोर्ट के जस्टिस अपरेश कुमार सिंह की अदालत में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनवाई हुई। लेकिन राजद सुप्रीमो को इस मामले मे कोई राहत आज भी नहीं मिली। फिलहाल बेल के लिए लालू प्रसाद को अभी और इंतजार करना होगा। हाइकोर्ट में सीबीआई ने लालू प्रसाद की जमानत याचिका का विरोध किया। जिसके बाद कोर्ट ने लालू प्रसाद के आधी सजा पूरा कर लेने की दलील को नहीं माना। अभी इसमे 26 दिन कम होने के कारण कोर्ट ने बेल पर अगली सुनवाई के लिए 09 अक्टूबर की तारीख मुकर्रर की है।

गौरतलब हो कि अरबों रुपये के बहुचर्चित चारा घोटाले के तीन मामलों में सजायाफ्ता लालू प्रसाद यादव की ओर से चाईबासा कोषागार से अवैध निकासी मामले में सीबीआई की विशेष अदालत की ओर से दिये गये फैसले को चुनौती दी गयी है। लालू प्रसाद द्वारा सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए सजा की आधी अवधि पूरी होने की दलील देकर न्यायालय से इस केस में जमानत देने की अपील की है। न्यायालय के समक्ष लालू यादव की ओर से दायर जमानत याचिका में स्वास्थ्य कारणों का भी हवाला दिया गया है। लालू प्रसाद की जमानत याचिका पर पिछले 28 अगस्त को ही सुनवाई होनी थी। मगर सीबीआई द्वारा समय मांगे जाने के कारण सुनवाई 11 सितंबर तक के लिए टल गयी थी।

बिहार चुनाव को देखते हुए लालू प्रसाद की जमानत पर सबकी नजरें टिकी हुई हैं। मगर लालू प्रसाद को चाईबासा केस में जमानत मिल भी जाती है, तो वे जेल से बाहर नहीं निकल पायेंगे। इसका वजह चारा घोटाले के दुमका केस में लालू प्रसाद का सजायाफ्ता होना है। लालू के बेटे तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा है कि माननीय न्यायालय पर हम लोगों को पूरा भरोसा है कि लालू जी को न्याय जरूर मिलेगा।