Breaking News
Home / दिल्ली / सर्जिकल स्ट्राइक का नेतृत्व करने वाले जरनल बोले, नेता इसमें और कितनी राजनीति करेगे

सर्जिकल स्ट्राइक का नेतृत्व करने वाले जरनल बोले, नेता इसमें और कितनी राजनीति करेगे

नई दिल्ली: पाकिस्तान के इलाके में घुसकर हमारी सेना ने सितम्बर 2016 में उनके कई सारे कैम्प तबाह कर दिए थे जिसे सर्जिकल स्ट्राइक नाम दिया गया| इसका नेतृत्व रिटायर्ड जरनल डीएस हुड्डा ने किया था| बीते दो सालों में सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर हुई राजनीति से परेशान हुड्डा ने कहा है की हमारे देश के राजनेता ये बता दे की आखिर कब तक वो सर्जिकल स्ट्राइक पर राजनीति करेगे| हम किसी राजनीतिक फायदे के लिए कोई सैन्य कार्यवाही नहीं करते बल्कि ये हमारा काम होता है|

Loading...

कितनी राजनीति और– जनरल डीएस हुड्डा चंडीगढ़ लेक क्लब में शुक्रवार से शुरू हुए आर्मी मिलिट्री लिटरेचर फेस्टिवल में रोल ऑफ क्रॉस बॉर्डर ऑपरेशन एंड सर्जिकल स्ट्राइक विषय पर बोल रहे थे| सर्जिकल स्ट्राइक पर बोलते हुए सेना के पूर्व सैन्य वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘मुझे लगता है कि इसका (सर्जिकल स्ट्राइक) बहुत महिमामंडन हो रहा है| स्ट्राइक करना जरूरी था और हमने कर दिया| अब राजनेताओं को इस बारे में पूछा जाना चाहिए कि इस पर और कितनी राजनीति होनी चाहिए|’  हुड्डा ने कहा की देश में उरी और पठानकोट जैसे हमले हुए थे और इसके बाद सर्जिकल स्ट्राइक जरूरी थी| सेना का मनोबल बढाने के लिए ऐसे काम समय समय पर किये जाते है लेकिन इसका अर्थ ये नहीं की पाकिस्तान से आतंकवाद खत्म हो जाएगा| सर्जिकल स्ट्राइक से सेना का मनोबल बढ़ता है और इससे पाकिस्तान का हमला और आतंकवाद खत्म नहीं होने वाला है|

आपको बता दे की बीते दो सालों में मोदी सरकार ने सबसे अधिक सर्जिकल स्ट्राइक को प्रमोट किया है|

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *