आइये जाने ट्रिपैनोसोमा नाम के एक परजीवी से फैलने वाली बीमारी के बारे में !

नींद आने की घातक बीमारी त्वचा के जरिए भी फैल सकती है।

अफ्रीकी देशों में गंभीर समस्या बन चुकी नींद की यह बीमारी ट्रिपैनोसोम नाम के एक परजीवी से फैलती है, जिसके संचरण में त्वचा बहुत अहम भूमिका निभाती है।

समुचित इलाज न होने पर यह बीमारी घातक भी हो सकती है।

यह निष्कर्ष बीमारी के निदान, इलाज और संभावित उन्मूलन पर गहरा असर डाल सकता है।

इस बीमारी से उप-सहारा अफ्रीकी क्षेत्र में हर साल हजारों लोग काल के गाल में समा जाते हैं। यह प्रमुख रूप से मनुष्यों में संक्रमित सी-सी मक्खी के काटने से फैलता है। इसके संक्रमण का पता रक्त की जांच करने से चलता है।

ट्रिपैनोसोम्स की बीमारी पैदा करने वाली प्रचुर मात्रा त्वचा के अंदर मौजूद होती है, जो सीसी मक्खी द्वारा आसानी से फैल सकती है।

त्वचा में रहने वाले परजीवी त्वचा को आहार के रूप में खाकर सक्रिय बने रहते हैं, जिससे यह बीमारी को आगे फैलाने में भी  सक्षम होते हैं।

यह भी पढ़ें-

चने की दाल खाने से कई तरह की समस्याएं दूर होती है, चलिए जानते है कैसे…