सभी 27 आरोपियों को कंचनाथम तिहरे हत्याकांड में आजीवन कारावास

तमिलनाडु में अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति मामले (अत्याचार निवारण) की विशेष अदालत ने दक्षिणी शिवागंगा जिले के कंचनाथम गांव में वर्ष 2018 में हुई तीन दलितों की हत्या के सनसनीखेज मामले में शुक्रवार को सभी 27 आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई।


विशेष अदालत के न्यायाधीश जी मुथुकुमारन ने 27 आरोपियों को एक अगस्त को दोषी ठहराया था। उन्होंने आज इन्हें आजीवन कारावास की सजा सुनाई।


गत 28 मई 2018 को मंदिर पर सम्मान करने को लेकर हुए विवाद में प्रभावशाली समुदाय के लोगों के समूह ने धारदार हथियारों के साथ हमला कर अनुसूचित जाति के तीन लोगों की हत्या कर दी और कई अन्य को घायल कर दिया। गत 28 मई की रात बिजली आपूर्ति कटने के बाद प्रभावशाली वाली जाति के लोग अनुसूचिति जाति के लोगों के घरों में घुस गए
और उन पर हमला कर दिया।

इस हमले में के अरुमुगम , ए षणमुगनाथन और वी चन्द्र शेखर की मौत हो गई।
मामले में एक चार किशोरों सहित कुल 33 लोगों को आरोपी बनाया गया था। इनमें से एक फरार है और एक की सुनवाई के दौरान मौत हो गई।

यह भी पढ़ें:- उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को करना है धीमा, तो डाइट में लें ये 4 तरह के फूड्स