लोजपा की संसदीय बोर्ड की बैठक जारी, जदयू के खिलाफ उम्मीदवार खड़ा करने पर आयेगा फैसला

बिहार मे विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही चुनावी सरगर्मी तेज हो चुकी है। रोज नए समीकरण बन रहे है और बिगड़ रहे है। बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर आज लोजपा की तरफ से महत्वपूर्ण फैसला आ सकता है। नीतीश कुमार की वर्चुअल रैली के ठीक बाद दिल्ली में लोजपा की संसदीय दल की बैठक शुरू हो गई है। इस बैठक में किस मुद्दे पर चर्चा होने वाला है इसका संकेत पहले ही संसदीय बोर्ड के सदस्य और पार्टी प्रवक्ता संजय सिंह ने दे दिया है। संजय सिंह ने कहा कि उनके नेता जब विकास को लेकर सवाल उठा रहे हैं तो जदयू के नेता उन्हें गालियाँ दे रहे हैं, उन्हें कालिदास बता रहे हैं।

दरअसल मौजुदा हालात को देखते हुए संसदीय बोर्ड के हर सदस्य की यहीं मांग है कि जदयू के सीटों पर भी लोजपा उम्मीदवार को उतारा जाए। वैसे तो लोजपा में सभी फैसले तो चिराग पासवान को ही करने होते हैं। ऐसा कयास लगाया जा रहा है कि इस मुद्दे पर पहले ही चिराग पासवान अपने पिता रामविलास पासवान से भी मुलाक़ात कर चुके हैं। इस मुलाक़ात के बाद संजय सिंह का ऐसा बयान एनडीए की चिंता बढ़ा सकता है।

गौरतलब है कि अभी जो फॉर्मूला चिराग पासवान आजमाना चाहते है ये पहले भी उनके पिता रमविलास पासवान आजमा चुके है। 2005 कि चुनाव मे कांग्रेस पार्टी के साथ राजद और लोजपा  दोनों का गठजोड़ था लेकिन एलजेपी ने राजद के सभी उम्मीदवारों के खिलाफ अपना उम्मीदवार उतार दिया था। रिजल्ट ये निकला कि लालू यादव को तीस से ज्यादा सीटों से हाथ धोना पड़ा और नीतीश कुमार की सत्ता में वापसी हो गई। अब सवाल ये है की क्या एनडीए मे साथ रहते हुए सहयोगी पार्टी ऐसा करने देगी?