सांस की किसी भी बीमारियों को जड़ से उखाड़ फेंकते हैं आम के पत्ते

आम को फलों का राजा यूं ही नहीं कहा जाता। इसका स्वाद बेजोड़ होता है और शायद इसीलिए हर व्यक्ति इसे पसंद करता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आम के पत्ते भी उतने ही स्वास्थ्यवर्धक होते हैं। इससे कई बीमारियों का इलाज किया जा सकता है। इन्हीं में से एक है दमे की बीमारी। आम की पत्तियां सांस संबंधी इस परेशानी को आसानी से दूर कर देती हैं। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में-

आम सांस से जुड़ी सभी बीमारियों का इलाज कर सकता है। सिर्फ जुकाम, ब्रॉन्‍काइटिस या अस्‍थमा से पीड़ित व्यक्ति के लिए ही आम की पत्तियों का काढ़ा लाभदायक नहीं होता। बल्कि माना जाता है कि अगर आवाज भी चले जाए तब भी आम की पत्तियों के प्रयोग से उसे वापस लाया जा सकता है।

अस्‍थमा के इलाज के लिए आम की पत्तियों का इस्तेमाल करने से पहले उससे काढ़ा बनाने की विधि के बारे में भी जानना जरूरी है। इसके लिए आम की पत्तियों के कुछ टुकड़े कीजिए, उन्‍हें सुखा लीजिए। सुखा कर इसे पीस लीजिए। इसके बाद आम की इन पत्तियों के दो टेबल स्‍पून पाउडर को एक कप पानी में डालकर गर्म कीजिए। ठंडा होने पर इसे पिएं। इसे नियमित रूप से पीने पर गले की समस्‍या में आराम मिलता है।