दिल के मरीजों के लिए रामबाण है आम का बीज, जानिये कैसे करें इस्तेमाल

लैंसेट 2018 की एक रिपोर्ट के अनुसार भारत में 28 प्रतिशत लोगों की मौत दिल की बीमारी के वजह से होती है। दिल के अनफिट रहने से हार्ट अटैक, हार्ट फेलियर, स्ट्रोक जैसे कई खतरे होते हैं। हार्ट पेशेंट्स को अपने स्वास्थ्य के प्रति बेहद सचेत रहना चाहिए और खानपान पर भी विशेष ध्यान देना चाहिए। दवाइयों के साथ-साथ कई घरेलू उपायों से भी लोग दिल की बीमारी से दूर रह सकते हैं, इन्हीं उपायों में से एक है आम के बीज का सेवन। आइए जानते हैं कि आम की गुठलियां कैसे हृदय रोगियों के लिए है गुणकारी-

ब्लड प्रेशर रहता है नियंत्रित: आम के बीज दिल को निरोगी व मजबूत रखने में मदद करता है। हाई ब्लड प्रेशर कई हार्ट डिजीज को बुलावा देता है, ऐसे में अगर लोग आम के बीज का पर्याप्त मात्रा में सेवन करेंगे तो उनके रक्तचाप का स्तर कंट्रोल में रहेगा। इसके अलावा, इसमें आयरन भी भरपूर मात्रा में मौजूद होता है जिससे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन सुचारू रूप से होती है और रक्त वाहिकाओं यानि कि ब्लड वेसल्स में किसी प्रकार का कोई ब्लॉकेज भी नहीं होता।

कोलेस्ट्रॉल को करता है कंट्रोल: ICMR की एक रिपोर्ट के अनुसार भारत में 79 प्रतिशत लोगों के शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल जमा है जबकि 72 प्रतिशत लोगों में गुड कोलेस्ट्रॉल की कमी है। कोलेस्ट्रॉल की अधिकता लोगों में कई दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ाती है। ऐसे में आम की गुठली को खाने से लोगों को फायदा हो सकता है। अगर आप नियमित रूप से इसका इस्तेमाल करेंगे तो शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल कम बनेगा और गुड कोलेस्ट्रॉल में वृद्धि होगी। वहीं, मोटापे से पीड़ित लोगों में भी हृदय रोग होने की संभावना अधिक होती है। आम का बीज मोटापा घटाने में भी कारगर है।

ऐसे करें इस्तेमाल: ऐसा माना जाता है कि दिल को सेहतमंद रखने के लिए आम की गुठली से बना पाउडर बहुत कारगर है। हेल्थ रिपोर्ट्स के अनुसार इस पाउडर के सेवन से दिल की बीमारी का खतरा 30 प्रतिशत तक कम हो जाता है। आप आम के बीज से बने पाउडर को नियमित रूप से 1 ग्राम खाएं। इसके अलावा, आप इस पाउडर से बने हुए पेय पदार्थों का भी सेवन कर सकते हैं।

यह भी पढ़े-

Uric Acid के मरीज करें गोभी और मशरूम से परहेज, इन फूड आइटम्स से दूरी भी जरूरी