कई बीमारियों की पहचान बालों से भी होती है

हम सभी को सुंदर, लंबे बाल चाहिए लेकिन बदलते लाइफस्टाइल और खानपान की आदतों के कारण हर कोई सफेद बाल, दोमुंहे बाल, झड़ते बालों से बुरी तरह परेशान है। इसके लिए लोग तरह-तरह के हेयर प्रॉड्क्ट का इस्तेमाल तो करते लेकिन इनमें कई तरह के कैमिक्लस भी होते है, जो कई बार सूट नहीं करते है। वहीं हमारे बाल ही किसी गंभीर बीमारी का संकेत भी दे रहे होते है, जिनसे हम लोग अंजान होते है। इसलिए अगर आप भी बालों की कुछ ऐसी गंभीर समस्य़ा के शिकार है तो एक बार डॉक्टर की सलाह अवश्य लें। आज हम आपको कुछ ऐसे संकेतो के बारे में बताने जे रहे है, जिससे आप बीमारी का अंदाजा बहुत जल्द लगा सकते है और तुरंत डॉक्टर से कंसल्ट भी कर सकते है।

दोमुंहे बाल
ट्राईकोरेक्सिस नोडोसा (Tricorrexis nodosa) नामक जेनेटिक बीमारी के कारण बाल दो मुंहे होकर बहुत जल्द टूटने लगते है। कई बार कैमिक्लस के बुरे प्रभाव के कारण भी ऐसा होता है।

बीच बाले बालों का टूटना
शरीर में जरूरत से ज्यादा टेस्टोस्टेरोन की मात्रा बहुत ज्यादा बढ़ जाने के कारण सिर के बीच वाले हिस्से के बाल बहुत ही तेजी से झड़ने लगते है। इससे बालों की जड़े खराब हो जाती है, जिस वजह से दोबारा से बाल भी नहीं उगते ।

सफेद बाल
मेलेनिन नामक हॉर्मोन के कारण हमारे बाल, स्किन और आंखों का रंग तेय होता है। इस हॉर्मोन की कमी के कारण भी बाल सफेद होने लगते है।

डैड्रर्फ
यह सेबोरेहिक डर्मेटाइटिस नामक बीमारी को गंभीर संकेत हो सकता है। इस बीमारी के चलते बालों में डैड्रर्फ, ड्राईनेस और बाल बहुत ही तेजी से झड़ने लगते है।

बालों का पतला होना
शरीर में प्रोटीन की कमी के कारण बाल बहुत ही पतले होने लगते है और बहुत ही तेजी से झड़ने शुरू हो जाते है।

यह भी पढ़ें –

जानिए कैसे, आपको चुइंगम चबाना पड़ सकता है महंगा