उड़ न सकने वाले कई पक्षी हो गए विलुप्त, शोधकर्ताओं ने इंसान को माना जिम्मेदार

पृथ्वी पर न उड़ने वाले हर चार पक्षियों में से तीन अब विलुप्त हो चुके हैं, जिसके जिम्मेदार हम इंसान हैं। लंदन विश्वविद्यालय के जैव विविधता व पर्यावरण शोध केंद्र और स्वीडन के गठन वर्ग विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने यह दावा किया हैं। शोधकर्ताओं ने ऐसे 581 प्रजातियों के परिंदों की सूची तैयार की है, जो मानव से पहले पृथ्वी पर रहा करते थे लेकिन अब विलुप्त हो चुके हैं। इनमें से 226 उड़ नहीं सकते थे, इनमें से भी केवल 60 प्रजाति के पक्षी ही हमारे आसपास बचे हैं।

शोध में शामिल डॉक्टर फैरन सेयोल बताते है कि इंसान ने दुनिया भर में सैकड़ों प्रजातियों का खात्मा कर दिया हैं। न उड़ने वाले परिंदों के विलुप्त होने में इंसान का हाथ हैं, यह इस बात से समझा जा सकता है कि पहले इंसान परिंदों के अनुकूल आवास नष्ट करता हैं और फिर नए विकसित उपकरणों-औजारों से इनका आसानी से शिकार कर लेता हैं। इसके बाद इंसान अपने साथ लाए जीवों जैसे चूहे, बिल्ली, कुत्ते और आदि से भी इन न उड़ने वाले पक्षियों को खत्म करता हैं।

सह अध्ययनकर्ता प्रो. टिम ब्लैकबर्न बताते है कि उड़ने की क्षमता न होने पर इन पक्षियों के कुदरती शिकारी कम थे। ये पक्षी आकार में बड़े होते थे। जैसे शुतुरमुर्ग या फिर द्वीपों पर रहने वाले मेडागास्कर में खत्म हो चुका डोडो। यहां शिकारी व बड़े जानवर नहीं होते थे, इसलिए उड़ने की जरूरत नहीं थी।

यह भी पढ़े: फाइजर ने भारत में कोरोना वैक्सीन उपलब्ध कराने को लेकर दिया बयान, कहा ऐसा
यह भी पढ़े: मंगल ग्रह के खारे पानी से बनेगा ऑक्सीजन और ईंधन, वैज्ञानिकों ने विकसित की प्रणाली