सचिन पायलट के CM बनने के बीच उलझ रही गणित, क्या थामेंगे बीजेपी का दामन या बनाएंगे तीसरा मोर्चा ?

राजस्थान के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने बागी तेवर अपना लिए है। उन्होंने अपने साथ 30 विधायकों का समर्थन होने का दावा किया है। राजस्थान की सत्ता आने वाले समय में किसके साथ होगी, यह तो देखने वाली बात होगी। लेकिन फिलहाल मुख्यमंत्री और उपमुख़्यमंत्री के बीच चल रही तनातनी ने प्रदेश की राजनीति में उथल-पुथल मचा दी है। वही सचिन पायलट के संदर्भ में कयास लगाए जा रहे है कि वे कांग्रेस छोड़कर बीजेपी के खेमे में जा सकते है।

आपकी जानकारी के लिए बता दे राजस्थान विधानसभा में कुल 200 सीटें है, जिनमें से सरकार बनाने के लिए किसी भी दल को 101 विधायकों की जरुरत है। फिलहाल अशोक गहलोत अभी कांग्रेस के 107, सीपीआईएम के दो, भारतीय ट्राइबल पार्टी के दो राष्ट्रीय लोक दल के एक और 13 निर्दलीय विधायको की मदद से सरकार चला रहे है। वही विपक्ष में बैठी बीजेपी के पास 72 विधायक हैं। साथ ही तीन विधायकों वाली राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी भी विपक्ष में ही है।

पूरे घटनाक्रम का रोमांचक मोड़ यह है कि सचिन पायलट 30 विधायकों के साथ या तो बीजेपी खेमे में चले जाएंगे या फिर तीसरा मोर्चा बनाएंगे। यदि सचिन बीजेपी के समर्थन से सरकार बनाने का प्रयास करते है तो उनके पास विधायकों की इतनी संख्या नहीं होगी कि बीजेपी उन्हें मुख्यमंत्री के तौर पर स्वीकार करें।

यह भी पढ़े: कोरोना के इलाज में रेमेडिसिवर दवा की बढ़ी भूमिका, 62 फीसदी तक कम हुआ मौत का जोखिम
यह भी पढ़े: अमेरिका में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के बीच डोनाल्ड ट्रंप ने पहली बार पहना मास्क