गर्भवती महिला के लिए बहुत जरूरी है मेडिटेशन, जानिए क्यों

गर्भावस्था के नाजुक दौर में महिला को अपनी हर छोटी-बड़ी चीज का ध्यान रखना चाहिए। आमतौर पर देखने में आता है कि इस अवस्था में महिला अपने खानपान का पूरी तरह ख्याल रखती है, लेकिन अन्य बातों की ओर उसका ध्यान ही नहीं जाता। आपको शायद पता न हो लेकिन मेडीटेशन इस अवस्था में महिला व गर्भस्थ शिशु दोनों के लिए लाभदायक होता है। तो चलिए जानते हैं मेडिटेशन से गर्भवती महिला को होने वाले कुछ बेहतरीन लाभों के बारे में-

  • यह तो हम सभी जानते हैं गर्भावस्था में तनाव गर्भस्थ शिशु के स्वास्थ्य के लिए उचित नहीं होता। ऐसे में अगर गर्भवती महिला प्रतिदिन मेडिटेशन करती है तो इससे उसका दिमाग रिलैक्स होता है और किसी भी तरह के नकारात्मक विचार उसके दिमाग में नहीं आते। इस तरह उसका बच्चा काफी हेल्दी होता है।
  • वहीं मेडिटेशन आपके इम्युन सिस्टम को भी मजबूत बनाता है तथा गर्भवती महिला को आम इंफेक्शन होने की संभावना काफी हद तक कम हो जाती है। मेडिटेशन शरीर के इम्यून फंक्शन में सुधार करता है।
  • प्रसव के दौरान महिला को असहनीय पीड़ा का सामना करना पड़ता है। लेकिन अगर गर्भावस्था में मेडिटेशन किया जाए तो प्रसव का दर्द कम होता है क्योंकि मेडिटेशन करने से शरीर को उचित आराम मिल पाता है।
  • मेडिटेशन करने से समय पूर्व प्रसव की संभावनाएं न के बराबर होती है। इस तरह उनका होने वाला बच्चा हेल्दी होता है।

यह भी पढ़ें: