14 महीने बाद रिहा हुई महबूबा मुफ्ती, कहा-नहीं भूली बेइज्जती, जारी रहेगा संघर्ष

जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती करीब 14 महीने बाद मंगलवार को रिहा कर दी गई हैं। जिसके बाद उन्होंने एक ऑडियो संदेश जारी किया और जम्मू-कश्मीर के लिए संघर्ष का ऐलान किया। बता दे पिछले साल पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाने और धारा 35 ए को खत्म करने से ठीक पहले जन सुरक्षा कानून के तहत महबूबा मुफ्ती को नजरबंद कर दिया गया था, जिसके बाद अब जाकर उन्हें रिहा किया गया हैं।

ऑडियो संदेश में महबूबा मुफ्ती ने कहा कि उस काले दिन का काला फैसला उनके दिमाग में हर रोज खटकता रहा है और इसके लिए वह संघर्ष करेंगी। उन्होंने यह संदेश ट्विटर पर साझा किया। जिसकी अवधि करीब 1 मिनट 23 सेकेंड की हैं। उन्होंने कहा ‘एक साल से भी ज्यादा अर्से के बाद रिहा हुई हूं। मैं अनुच्छेद-370 की बहाली के लिए वे फिर से संघर्ष शुरू करूंगी। जम्मू-कश्मीर के लोग और मैं खुद उस दिन की बेइज्जती को नहीं भूल सकते हैं।’

जम्मू कश्मीर की पहली महिला मुख्यमंत्री रहीं महबूबा ऑडियो में आगे कहती हैं कि दिल्ली दरबार ने गैर कानूनी, गैर लोकतांत्रिक और गैर कानूनी तरीके से हमसे छीन लिया, उसे वापस लेना होगा। बल्कि उसके साथ-साथ कश्मीर के मसले को हल करने के लिए जद्दोजहद जारी रखनी होगी, जिसके लिए हजारों लोगों ने अपनी जानें न्योछावर की। यह आसान नहीं होगा लेकिन मुझे यकीन है कि हौसले से यह दुश्वार रास्ता भी तय होगा।

यह भी पढ़े: भारत में कोरोना अपने ढलान पर, आंकड़ों में देखें कैसे जंग जीत रहा है देश
यह भी पढ़े: हाथरस में एक और हैवानियत, चार साल की मासूम के साथ किया गया बलात्कार

Loading...