Breaking News
Home / टेक्नोलॉजी / स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक है मोबाइल को सिरहाने रखकर सोना

स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक है मोबाइल को सिरहाने रखकर सोना

आधुनिक युग के इस दौर में मोबाइल फोन हर किसी की जरूरत बन चुका है. यह लोगों के जीवन का एक अहम हिस्सा बन चुका है. आजकल बच्चों से लेकर बुजुर्ग आदमी के पास मोबाइल है और उनमें से 90 फीसदी मोबाइल में इंटरनेट मौजूद है. आजकल हर किसी की लाइफ पूरी तरह से मोबाइल फोन पर निर्भर हो गई है.

उठना-बैठना सोना-जागना हर जगह पर इसकी मौजूदगी होती है.  इससे भले ही लोगों के बीच की दूरियां कम हो गई हैं लेकिन इसमें से कुछ ऐसी रेडिएशन्स भी निकलती हैं जो सेहत पर बुरा असर भी डालती है. जरा-सी सावधानियां बरत कर आप परिवार के साथ-साथ खुद को भी सुरक्षित कर सकते हैं.

Loading...

मोबाइल अपने सिरहाने रखकर न सोएं

कई लोगों सोते समय अपना मोबाइल अपने सिरहाने रखकर सोते हैं जबकि ये स्वास्थ के लिए बेहद हानिकारक है. मोबाइल से निकलने वाले रेडिएशन सीधे आपके मस्तिष्क तक पहुंचते हैं जिससे मस्तिष्क का तापमान बढ़ता है और ये कई सारे मानसिक समस्याओं का कारण हो सकता है.  साथ ही इससे मस्तिष्क में ट्यूमर का भी ख़तरा हो सकता है.

पैंट की जेब में न रखें

अगर आपका फोन ऑन है तो उसे छाती से लगाकर या पैंट की जेब में न रखें. क्योंकि मोबाइल से निकलने वाली रेडिएशन आपके दिल को और आपकी प्रजनन क्षमता को नुकसान पहुंचा सकती है.

स्‍पीकर ऑन करके बात करें

अक्सर जब भी कोई कॉल आती है तो लोग सीधे मोबाइल कान पर लगाकर बात करना शुरू कर देते हैं लेकिन इससे स्वास्थ्य सम्बंधी खतरे बढ़ जाते हैं इसलिए ध्यान रखें जब भी आप किसी से मोबाइल पर बात कर रहे हों तो कोशि‍श कीजिए कि मोबाइल सीधे कान पर लगाने की बजाए उसका स्पीकर ऑन कर बात करें.

बच्‍चों की पहुंच से मोबाइल दूर रखें

 मोबाइल के अधिक प्रयोग से बच्चों के मस्तिष्क पर घातक असर पड़ रहा है. इसके कारण 10 से 15 साल तक के बच्चों में डिप्रेशन, एंजाइटी, अटैचमेंट डिसॉर्डर और मायोपिया जैसी गम्भीर बीमारियों की शिकायतें मिल रही हैं. ऐसे जरूरी है कि बच्चों की मोबाइल की पहुंच से हर सम्भव दूर रखा जाए.

मरीजों से दूर रखें

साथ ही मोबाइल को मरिजो से भी दूर ही रखना चाहिए , इसलिए मोबाइल को मरीजों से कम से कम छह इंच तक दूर रखें, या फिर उनके पास बिल्‍कुल न ले जाएं.

चश्‍मा पहने हों तो मोबाइल से बात न करें

चश्मा पहनकर फोन पर बात ना करें, क्योंकि असल में चश्मों के फ्रेम धातु से बने होते है और धातु रेडियो तरंगों के लिए बेहतरीन सुचालक का कार्य करती है इसलिए चश्मा पहनने की स्थिति में रेडिएशन का खतरा बढ़ जाता है.

बाल गीले हो तो भी ना करें मोबाइल से बात

इस अलावा जब आपका सिर गीला हो या फिर नहाने के तुरंत बाद मोबाइल फ़ोन का इस्तेमाल ना करें. क्योंकि क्योंकि पानी और धातु दोनों रेडियो तरंगों के बेहतरीन सुचालक है. ऐसे में गीले बालों के साथ मोबाइल पर बात खतरनाक साबित हो सकता है .

 

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *