Breaking News
Home / देश / चुनाव से पहले एमपी भाजपा ने 53 बागी नेताओ को पार्टी से निकाला

चुनाव से पहले एमपी भाजपा ने 53 बागी नेताओ को पार्टी से निकाला

भोपाल; सूबे में होने वाले विधानसभा चुनावो से पहले भाजपा को आंतरिक कलह से गुजरना पड़ रहा है| जब से लिस्ट जारी हुई है तब से ही भाजपा के कई सारे नेता बागी होकर पार्टी के खिलाफ बोल रहे है और ऐसे में भाजपा के आलाकमान भी सख्त होते दिखाई दे रहे है| बीते कई दिनों से बागियों में मनाने में जुटी भाजपा ने एक्शन लेते हुए 53 नेताओ को पार्टी से बहर का रास्ता दिखा दिया है|

Loading...

बड़ा सियासी उलटफेर– बीजेपी में इतनी बड़ी सियासी हलचल से पहले बागी नेताओं को मनाने की काफी कोशिशें की गई| हालांकि जब ये बागी नेता इसके लिए तैयार नहीं हुए तो काफी मंथन के कार्रवाई की गई| जानकारी के मुताबिक पार्टी के दिग्गज नेता और केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, विनय सहस्त्रबुद्धे, कैलाश विजयवर्गीय और प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने अहम बैठक की| इस बैठक के बाद बागी नेताओं पर अनुशासनात्मक कार्रवाई का फैसला लिया गया| बागी नेताओं का पार्टी से निष्कासन 6 साल के लिए किया गया है| इस संबंध में पार्टी के जिला मुख्यालयों को जानकारी दे दी गई है| जिन लोगों को पार्टी से निकाला गया उनमें ग्वालियर की पूर्व महापौर समीक्षा गुप्ता, लता मेहसाकी, धीरज पटेरिया और राज कुमार यादव का नाम भी शामिल है| समीक्षा गुप्ता ने खुद ऐलान किया था कि उन्होंने पार्टी छोड़ दी है और 28 नवंबर को विधानसभा चुनाव के दौरान वो निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ेंगी| इसके अलावा पार्टी के वरिष्ठ नेता सरताज सिंह, पूर्व मंत्री रामकृष्णा कुसमारिया और भिंड से विधायक नरेंद्र कुशवाहा का नाम भी शामिल है| सरताज सिंह ने सीओनी-मालवा निर्वाचन क्षेत्र से टिकट की मांग की थी लेकिन उम्मीदवारों को लिस्ट में नाम नहीं मिलने के बाद उन्होंने कांग्रेस का रुख किया था| सरताज सिंह कांग्रेस के टिकट पर चुनाव मैदान में उतरे हैं, वहीं पूर्व सांसद रामकृष्ण कुसमरिया निर्दलीय ताल ठोक रहे हैं|

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *