अवश्य पढ़ें यह खबर अगर आपको है मोमोस खाने की लत

वर्तमान की बदलती लाइफस्टाइल के कारण आजकल के युवा फ़ास्ट फ़ूड का अत्यधिक सेवन करने लगे हैं। आजकल हर गली, नुक्‍कड़ पर मोमोज की दुकान पर लोग बहुत ही बड़े चाव से मोमोज खाते देखे जा सकते हैं। मोमोज या मैदे से बने खाद्य पदार्थ के कई सारे साइड इफेक्‍ट भी हैं क्‍योंकि मैदा परिष्‍कृत गेंहू का आटा होता है, इसमें फाइबर कहि नही होता है। मैदे को सफेद और चमकदार बनाने के लिए बेंजोइल परऑक्साइड से पूरी तरह ब्‍लीच किया जाता है, जो कि अत्यधिक हानिकारक होता है। इसे खाने के और भी कई सारे दुष्‍प्रभाव हैं।

मैदा खाने से बॉडी में शुगर लेवल बहुत अधिक बढ़ जाता है। क्योंकि इसमें हाई ग्लाइसेमिक इंडेक्स मौजूद होता है। ब्लड शुगर बढऩे से खून में ग्लूकोज पूरी तरह जमने लगता है, इससे बॉडी में केमिकल रिएक्शन होता है, जिससे गठिया और ह्रदय संबंधी कई गंभीर बीमारियां होने लगती है।

मैदे से बने मोमोज में फाइबर कतई नही होता है, इसके अत्यधिक सेवन से पेट में कब्ज की गंभीर समस्या होने लगती है। इससे सिर में दर्द और मिचली जैसी भी गंभीर प्रॉब्लम हो सकती है।

जो लोग बहुत ही नियमित रूप से मैदे से बने मोमोज या अन्य खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता अत्यधिक कमजोर होने लगती है।

जब मैदा बनाया जाता है तो इसमें से प्रोटीन पूरी तरह निकल जाता है और यह पूरी तरह एसिडिक बन जाता है। जोकि हड्डियों से कैल्शियम को अवशोषित कर लेता है, जो हड्डी को कमजोर कर देते हैं।

यह भी पढ़ें-

जानिए प्याज की चाय पीने के गुणकारी लाभ और बनाने की विधि