दुष्कर्म के आरोपी को महज 9 दिन में सजा सुनाकर नालंदा कोर्ट ने रचा इतिहास

6 साल की बच्ची से अप्राकृतिक यौनाचार और दुष्कर्म मामले में आरोपी को महज 9 दिन में सजा सुनाकर नालंदा कोर्ट ने इतिहास रच दिया है। यह फैसला स्पीडी ट्रायल के तहत महज 9 दिन में सुनाया गया।

यह फैसला बिहार का पहला जबकि पूरे देश का दूसरा फैसला है। इसके पहले मध्य प्रदेश के कटनी में महज 7 दिन में इस तरह का फैसला सुनाया गया था।

क्या था मामला?

बिहार के नालंदा के नूरसराय थाना इलाके के एक गांव में बीते 26 जुलाई 2020 को पड़ोस के रहने वाले किशोर ने बहला फुसला कर 6 साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म किया।

इस मामले में कोर्ट ने 9 दिन में मामले में गवाही और बहस पूरी कराकर आरोपित किशोर को दुष्कर्म के लिए 3 साल, अप्राकृतिक यौनाचार में 3 साल और पॉक्सो अधिनियम में भी 3 साल की सजा सुनाई है। सभी सजाएं साथ-साथ चलेंगी।

यह भी पढ़ें:

महात्‍मा गांधी की जयंती और पुण्‍यतिथि पर ट्रेंड होता है नाथूराम गोडसे का नाम