मंत्रिमंडल विस्‍तार में पसंद के विधायकों को स्‍थान न दिए जाने से खुश नहीं थे नवजोत सिंह सिद्धू

पंजाब में नवजोत सिंह सिद्धू ने कांग्रेस प्रदेश अध्‍यक्ष पद से इस्‍तीफा दे दिया है। उन्‍होंने कहा है कि वे पंजाब के भविष्‍य और उसके कल्‍याण के एजेंडे पर कोई समझौता नहीं कर सकते है। सिद्धू, मंत्रिमंडल विस्‍तार में उनकी पसंद के विधायकों को स्‍थान न दिए जाने सहित, हाल के घटनाक्रम से खुश नहीं थे।

सिद्धू ने अपना इस्तीफा पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेजा जिसमें उन्होंने कहा कि वह कांग्रेस की सेवा करना जारी रखेंगे।

सिद्धू ने पार्टी अध्यक्ष को भेजे अपने पत्र में कहा, “एक आदमी के चरित्र का पतन समझौता कोने से होता है, मैं पंजाब के भविष्य और पंजाब के कल्याण के एजेंडे से कभी समझौता नहीं कर सकता। इसलिए, मैं पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देता हूं।”

सिद्धू का पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष का कार्यकाल बहुत छोटा रहा। उनका अमरिंदर सिंह के साथ महीनों के विवाद के बाद 23 जुलाई को उन्हें पंजाब कांग्रेस प्रमुख के रूप में नियुक्त किया गया। कांग्रेस में इस मामले से परिचित लोगों ने कहा कि सिद्धू निराश हैं क्योंकि उन्हें मुख्यमंत्री नहीं बनाया गया। वहीं मिलीं जानकारी के अनुसार वह पद छोड़ने का फैसला लेने से पहले गांधी परिवार से नहीं मिले थे।

यह भी पढ़ें: इस वजह से कन्हैया कुमार के साथ कांग्रेस ज्वाइन नहीं कर पाए जिग्नेश मेवानी