आर्यन खान को एनसीबी की एसआईटी ने किया समन।

मुंबई नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) द्वारा जांच किए जा रहे छह मामलों को अपने कब्जे में लेने के बाद दिल्ली एनसीबी की विशेष जांच टीम (एसआईटी) ने क्रूज ड्रग रेड मामले की जांच शुरू कर दी है।

मिलीं जानकारी के अनुसार जाँच टीम ने अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान, उनके दोस्त अरबाज मर्चेंट, कथित ड्रग तस्कर अचित कुमार और मामले से जुड़े कई अन्य लोगों को तलब किया है। अरबाज मर्चेंट और अचित कुमार रविवार को दक्षिण मुंबई में एनसीबी कार्यालय पहुंचे और एजेंसी ने उनका बयान दर्ज किया।

आईपीएस संजय सिंह की अध्यक्षता वाली एसआईटी के हवाले से कहा, “हमने मामले से जुड़े आरोपियों और गवाहों सहित कई लोगों को तलब किया है और हम उनकी जांच कर रहे हैं।”

अरबाज मर्चेंट के पिता असलम मर्चेंट ने कहा, ‘हमें रविवार को समन मिला जबकि समन जारी करने की तारीख शनिवार को बताई गई थी। इसलिए इसे प्राप्त करने के बाद हम एनसीबी कार्यालय आए। हमें कोई समस्या नहीं है और हम जांच में सहयोग कर रहे हैं। हमारे लिए अच्छा है कि तथ्य सामने आ जाएंगे। कानून के अनुसार केंद्रीय एजेन्सी एनसीबी किसी भी संदिग्ध को जांच के लिए बुला सकता है।

सूत्रों से मिलीं जानकारी के अनुसार आर्यन खान को समन भेज दिया गया है और हम आने वाले दिनों में उनका बयान दर्ज करेंगे।
बता दें, आर्यन खान, अरबाज़ मर्चेंट और मुनमुन धमेचा को एनसीबी ने 2 अक्टूबर को एक क्रूज जहाज पर ड्रग छापेमारी के बाद हिरासत में लिया था। कई घंटों की पूछताछ के बाद खान, मर्चेंट और धमेचा को 3 अक्टूबर को गिरफ्तार कर लिया गया।

खान और मर्चेंट को 7 अक्टूबर को आर्थर रोड जेल में न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। जबकि धमेचा को भायखला महिला जेल भेज दिया गया। उन्हें 28 अक्टूबर को बॉम्बे हाईकोर्ट से जमानत मिली और खान को 30 अक्टूबर को जेल से रिहा किया गया। जबकि मर्चेंट और धमेचा को 31 अक्टूबर को ज़मानत पर रिहा किया गया।

दिल्ली से आईं एनसीबी की एसआईटी ने शनिवार शाम को तथ्यों की जांच के लिए क्रूज शिप का भी दौरा किया। एजेंसी ने सीआईएसएफ अधिकारियों के साथ-साथ 3 अक्टूबर को छापेमारी के दौरान पेश किए गए क्रूज जहाज के स्टाफ सदस्यों के बयान दर्ज किए। एनसीबी जोनल निदेशक समीर वानखेड़े क्रूज जहाज का दौरा करने के दौरान टीम के साथ थे। सिंह ने कहा, “क्रूज जहाज के कप्तान, प्रभाकर सेल सहित नौ स्वतंत्र गवाहों के साथ-साथ मामले से जुड़े अन्य लोगों से भी पूछताछ की जाएगी।”

एसआईटी का गठन 5 नवंबर को किया गया था और एनसीबी प्रमुख एसएन प्रधान ने एक आदेश जारी किया था कि एनसीबी की मुंबई जोनल यूनिट से छह मामलों को उसके मुख्यालय से संचालन शाखा में स्थानांतरित किया जाए ताकि गहन जांच की जा सके। एसआईटी टीम छह मामलों की जांच करने के लिए शनिवार को मुंबई पहुंची जिसमें ड्रग-ऑन-क्रूज मामला भी शामिल था।

सिंह ने कहा कि एसआईटी वानखेड़े की मदद लेगी जो पहले मामले की निगरानी कर रहे थे।
अन्य मामलों में महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता नवाब मलिक के दामाद समीर खान के खिलाफ ड्रग्स का मामला भी शामिल है। खान को एनसीबी ने जनवरी 2021 के पहले सप्ताह में गिरफ्तार किया था और 28 सितंबर को जमानत पर रिहा किया गया था।

साथ ही एसआईटी अभिनेता अरमान कोहली से जुड़े मामले की भी जांच करेगी। वानखेड़े के नेतृत्व में एनसीबी की एक टीम ने 28 अगस्त को कोहली के जुहू स्थित आवास पर छापा मारा था और थोड़ी मात्रा में कोकीन बरामद की थी। कोहली को 29 अगस्त को गिरफ्तार किया गया था।
एसआईटी द्वारा जांच किया जाने वाला चौथा मामला एजेंसी की मुंबई क्षेत्रीय इकाई द्वारा 25 जुलाई को दर्ज किया गया था

जब उसने तीन लोगों – समीर मुख्तार सैय्यद उर्फ ​​सैम लंगडा, जाकिर सैय्यद उर्फ ​​जाकिर टकला उर्फ ​​जाकिर चिकना और मोहम्मद आमद शम्सुद्दीन शेख को गिरफ्तार किया था और कथित तौर पर 1.2 किलो चरस, मेफेड्रोन की एक मध्यवर्ती मात्रा के साथ-साथ उनसे नकद में ₹ 17.5 लाख जब्त कर लिया गया था। एनसीबी ने दावा किया कि समीर मर्चेंट उर्फ ​​सैम लंगडा कुख्यात संगठित ड्रग माफिया सदस्य था।

सूची में पांचवां मामला सितंबर में दर्ज किया गया था जब एनसीबी ने मेफेड्रोन की एक मध्यवर्ती मात्रा बरामद की थी, जबकि छठा मामला दक्षिण मुंबई के डोंगरी क्षेत्र से मेफेड्रोन की वसूली से संबंधित था।