नेपाल खोल रहा चीन के साथ दूसरा बॉर्डर पॉइंट, ट्रकों की मदद से आयात होगा सामान

भारत के साथ तनाव पैदा कर नेपाल चीन के साथ अपने संबंधो को मजबूत करने में लगा हुआ है। इसी बीच कोरोना वायरस की वजह से पांच महीने बंद रहने के बाद अब नेपाल चीन के साथ रसुआगढ़ी बॉर्डर पॉइंट खोलने जा रहा है। दोनों देशों के बीच इसके लिए सहमति बन गई है। जानकारी के मुताबिक फिलहाल यहां लोगों की आवाजाही पर पाबंदी रहेगी। लेकिन हाइड्रोपावर और एयरपोर्ट प्रॉजेक्ट के लिए कंस्ट्रक्शन मटेरियल सहित अन्य सामानों की आवाजाही रहेगी।

गौरतलब है कि नेपाल ने कोरोना संकट को देखते हुए चीन के साथ अपने दोनों बॉर्डर पॉइंट्स तातोपानी और रसुआगढ़ी को 29 जनवरी को बंद कर दिया था। लंबा समय बीतने के बाद अब दोनों देशों के बीच बुधवार को नेपाल-चाइना मैत्री पुल को खोलने पर सहमति बनी है। समझौते के तहत चीन से आने वाले ट्रक द्वारा सामान को नेपाल बॉर्डर पॉइंट पर उतार दिया जाएगा। इसके बाद वहां से नेपाल के ड्राइवर्स और लोडर्स सामान को उनके सही स्थानों पर पहुचांयेंगे।

चीन ने नेपाल से उसके उन 15 ड्राइवर्स और 15 वर्कर्स की सूची मांगी है जिनके द्वारा सामानों को बॉर्डर पॉइंट से लाया जाएगा। इसके अलावा सभी वर्कर्स और ड्राइवर्स का हर दिन कोरोना टेस्ट किया जाएगा। बता दे पिछले साल ही रसुआगढ़ी बॉर्डर पॉइंट पुल को चीन की मदद से खोला गया था। यह पुल 2015 के भूकंप में नष्ट हो गया था। इसके अलावा कुरुंग में मौजूद दूसरा बॉर्डर पॉइंट 24 किलोमीटर की दूरी पर है।

यह भी पढ़े: ये घरेलू नुस्खे बहुत सहायक है गर्दन के दर्द से छुटकारा दिलाने में
यह भी पढ़े: शीर्षासन दिल से लेकर झड़ते बालों तक दिलाये हर प्रॉब्लम से छुटकारा