भारत की सीमा से सटे गांवों में ड्रैगन की मदद से मोबाइल नेटवर्क अपग्रेड कर रहा नेपाल

भारत के साथ जारी नक्शा विवाद के बीच नेपाल सरकार भारत से लगी सीमा के गांवों में अपने टेलीकॉम नेटवर्क को अपग्रेड करने में जुटी है। नेपाल सरकार के अधिकारी से मिली जानकारी के मुताबिक आने वाले दो-तीन महीनों में गावों में 4जी नेटवर्क के लिए मोबाइल टावर लगा दिए जायेंगे। वहीं, भारत की खूफिया एजेंसियों के मुताबिक नेपाल अपने सीमावर्ती गांवों में एक चीनी दूरसंचार कंपनी की मदद से 4जी सेवाओं की शुरुआत करने पर काम कर रहा है।

गौरतलब है कि भारत-नेपाल सीमा पर रहने वाले अधिकांश भारतीय लोग नेपाली सिम कार्ड का इस्तेमाल करते हैं। इससे उन्हें भारत की टेलीकॉम कंपनियों की तुलना में नेपाल से बेहतर गुणवत्ता वाली दूरसंचार सेवाएं मिलती हैं। जानकारों का कहना है कि नेपाल के गांव छंगरू, व्यास और तिनकर में सिग्नल की गुणवत्ता को सुधारने के तहत यह काम किया जा रहा है। बता दे ये सभी गांव भारत-नेपाल सीमा के नजदीक दार्चुला जिले के नजदीक बसे हुए है।

दार्चुला जिले के टेलीकॉम विभाग के अधिकारी के.बी. गुरुंग ने बताया कि वे तीन गांवों में टेलीकॉम सर्विस में सुधार कर रहे है। टेलीकॉम सर्विस छंगरू और व्यास में तो पहले से ही मोबाइल टावर थे, लेकिन तिनकर में नहीं था। हालांकि छंगरू और व्यास में पहले 3जी टावर थे जिन्हें अब 4 जी कर दिया जाएगा। इन गांवों के टावर को सैटेलाइट की मदद से ऑपरेट किया जाएगा। वही तिनकर में लगाया जाने वाला टावर 3जी ही होगा।

यह भी पढ़े: जल्द शुरू होगी अक्षय कुमार की बेल-बॉटम की शूटिंग
यह भी पढ़े: बेल्ट पहनने के यह है दुष्परिणाम