नेपाली PM ओली ने उठाया बड़ा कदम, भारत के साथ संबंध सुधारने का प्रयास

नेपाल के प्रधानमंत्री के.पी. शर्मा ओली ने बुधवार को कैबिनेट में फेरबदल किया। इस दौरान उन्होने अपने सबसे भरोसेमंद और देश के उप-प्रधानमंत्री ईश्वर पोखरियाल को रक्षा मंत्री के पद से हटा दिया हैं। शर्मा का यह कदम भारत के साथ बिगड़े अपने संबंधो को बेहतर बनाने का प्रयास माना जा रहा है। ईश्वर पोखरियाल को भारत के सबसे बड़े आलोचकों में शुमार किया जाता हैं। शर्मा का यह कदम भारतीय सेना प्रमुख के नेपाल दौरे से पहले अहम माना जा रहा है।

भारतीय सेना प्रमुख जनरल एम.एम. नरवणे 3 नवंबर को नेपाल के दौरे पर जा रहे हैं। इससे पहले भारत के सबसे बड़े आलोचकों में से एक पोखरियाल को रक्षा प्रभार से मुक्त करना केपी सरकार का बड़ा कदम है। पोखरियाल प्रधानमंत्री कार्यालय से जुड़े रहे हैं जिसे नेपाली मीडिया की मानें तो इसका प्रभावी मतलब ये हुआ कि वे बिना पोर्टफोलियो के मंत्री रहेंगे। ईश्वर पोखरियाल के संदर्भ में कई ऐसे किस्से है, जो उन्हें भारत का सबसे बड़ा आलोचक बनाता है।

गौरतलब है कि इसी साल मई महीने में जनरल नरवणे ने तिब्बत में कैलाश मानसरोवर जाने वाले यात्रियों के लिए बनाए गए 80 किलोमीटर लंबे लिपुलेख मार्ग को लेकर नेपाल की प्रतिक्रिया के पीछे चीन की साजिश बताया था। वहीं, ईश्वर पोखरेल ने दशकों से भारतीय सेना का अभिन्न अंग रहे गोरखा सैनिकों को उकसाने की मांग की थी। लेकिन नेपाली सेना का स्पष्ट कहना था कि भारत के साथ कूटनीतिक या राजनीतिक विवाद में सेना को ना घसीटा जाए।

यह भी पढ़े: फ्यूचर ग्रुप ने क्यूं बेचा रिलायंस को अपना कारोबार, किशोर बियानी ने बताई वजह
यह भी पढ़े: क्या आप भी बालों के झड़ने से परेशान है? तो अपनाये ये घरेलू नुस्खे

Loading...