एबीपी न्यूज के सीनियर रिपोर्टर रक्षित सिंह ने किसानो के समर्थन में नौकरी के बाद क्या कहा?

एबीपी न्यूज के सीनियर रिपोर्टर रक्षित सिंह ने किसानो के समर्थन में 12 लाख की नौकरी छोड़ने का ऐलान किया। रक्षित मेरठ की किसान महापंचायत कवर करने पहुंचे थे। उन्होंने मंच से कहा कि मैं पिछले 15 सालों से पत्रकारिता कर रहा हूं। मैंने यह पत्रकारिता इसलिए चुनी क्योंकि मुझे सच दिखाना था, लेकिन मुझे सच नहीं दिखाने दिया जा रहा। लात मारता हूं मैं ऐसी नौकरी को।

रक्षित ने मंच से कहा कि ये करने के बाद मुझपर मुकदमें दर्ज किए जाएंगे। अगर सच दिखाना बंद कर देते हैं तो ये भी झूठ है। और इस झूठ के मैं खिलाफ हूं। उन्होंने कहा कि जब मेरा बच्चा मुझसे पुछेगा कि बापु जब देश में अघोषित इमरजेंसी लगी थी तब आप कहां थे तो मैं कहूंगा सीना ठोक के मैं किसानों के साथ खड़ा था।

रक्षित सिंह ने मंच से कहा कि पढ़ने के बाद मैंने जयपुर में जूते घिसे, उसके बाद दिल्ली में नौकरी की, ईमानदारी के साथ सब कुछ कवर किया। आज तक मेरे ऊपर कोई चवन्नी का आरोप नहीं लगा सकता। आज की तारीख में मेरा साल का पैकेज 12 लाख का है। इसके अलावा मुझे कुछ आता भी नहीं।

रक्षित सिंह ने कहा – मैं तो कुछ व्यापार भी नहीं कर सकता। घर का अकेला लड़का हूं। कहां से पालूंगा। इस सवाल को खुद से पिछले तीन महीनों से पूछ रहा हूं, कि इस बच्चे को क्या खिलाउंगा। क्योंकि मुझे मालूम है ये करने के बाद होगा क्या।

एफआईआर दर्ज होगी, मुकदमें दर्ज होंगे। हो सकता है मैं सड़क से जा रहा होउं तो ट्रक का ब्रेक भी फेल हो सकता है। कुछ भी हो सकता है इस राज में लेकिन 56 इंच का न सहीं 5-6 इंच का सीना है, सीना तान के खड़ें हैं। डरते नहीं है किसी से।

यह भी पढ़ें:

राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के नाम पर भी है सरकारी संस्थान का छात्रावास, आधिकारिक तौर पर उपलब्ध है जानकारी