निकाय चुनाव से पहले दिग्विजय सिंह को सौंपी गई बड़ी जिम्मेदारी

मध्यप्रदेश में एक तरफ निकाय चुनाव को लेकर कमलनाथ जीत का दम भर रहे है तो वही दूसरी तरफ महाराष्ट्र में मचे घमासान को रोकने के लिए कमलनाथ को आलाकमान ने जिम्मेदारी सौंपी है। ऐसे में ग्वालियर चंबल इलाके में टिकट नहीं मिलने से नाराज कई नेताओं ने इस्तीफे (Resignation of Congress Leaders) देकर कमलनाथ की टेंशन को और बढ़ा दिया है। चुनाव से पहले कमलनाथ ने डैमेज कंट्रोल की जिम्मेदारी पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह को सौंपी है।

दरअसल, महाराष्ट्र में मचे घमासान को रोकने के लिए कांग्रेस ने कमलनाथ को पर्यवेक्षक बनाया है। लेकिन कमलनाथ अपने ही प्रदेश में मचे घमासान से परेशान है। ग्वालियर चंबल में टिकट वितरण को लेकर कांग्रेस में इस्तीफों (Resignation of Congress Leaders) की झड़ी लग गई है। इसी को लेकर कमलनाथ ने दिग्विजय सिंह को डैमेज कंट्रोल की जिम्मेदारी सौंपी है। खबरों के अनुसार ग्वालियर जिला अध्यक्ष देवेंद्र शर्मा, सुनील शर्मा, सेवादल जिला अध्यक्ष समेत कई नेताओं ने कमलनाथ को अपना इस्तीफा (Resignation of Congress Leaders) भेजा है। इसके अलावा मुरैना जिला कांग्रेस अध्यक्ष और मौजूदा विधायक राकेश मावई ने जिला अध्यक्ष पद से इस्तीफे (Resignation of Congress Leaders) की पेशकश की है।

दिग्विजय को डैमेज कंट्रोल की जिम्मेदारी
ग्वालियर चंबल में मचे घमासान को लेकर कमलनाथ की चिंता बढ़ गई है। क्योंकि चुनाव सिर पर है और पार्टी में इस्तीफों (Resignation of Congress Leaders) की झड़ी लग गई है। कमलनाथ ने डैमेज कंट्रोल की जिम्मेदारी दिग्विजय सिंह को सौंप दी है। कमलनाथ से मिले संकेत के बाद दिग्विजय सिंह आज ग्वालियर के लिए रवाना हो जाएंगे। रहे हैं। वही कांग्रेस ने महाराष्ट्र के घटनाक्रम को देखते हुए कमलनाथ को वहां का पर्यवेक्षक बना दिया हैै। ऐसे में कमलनाथ के सामने अपना घर बचाने की जिम्मेदारी और महाराष्ट्र के सियासी घटनाक्रम को साधने की जिम्मेदारी है। अब देखना होगा की ऐसे हालात में कमलनाथ कैसे दोहरी जिम्मेदारी निभा पाएंगे।

यह भी पढ़ें:

क्या गुनगुने पानी में शहद मिलाकर पीना स्वास्थ्य के लिए है खतरनाक? जानिये…