नोएडा एयरपोर्ट उत्तर भारत का लॉजिस्टिक गेटवे बनेगा: प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा कि नोएडा अंतरराष्‍ट्रीय हवाई अड्डा आधुनिक बुनियादी ढांचे का मार्ग प्रशस्‍त कर, विकास में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाएगा। उत्‍तर प्रदेश में गौतमबुद्धनगर के जेवर में नोएडा अंतरराष्‍ट्रीय हवाई अड्डे की आधारशि‍ला रखते हुए पीएम मोदी ने कहा कि 21वीं सदी के नए भारत में सबसे आधुनिक बुनियादी ढांचे का विकास किया जा रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि बेहतर सड़कें, रेल नेटवर्क, हवाई अड्डे केवल बुनियादी ढांचा परियोजनाएं ही नहीं हैं बल्‍कि ये लोगों के जीवन में बदलाव कर समूचे क्षेत्र का कायाकल्‍प करती हैं। उन्‍होंने कहा कि यह हवाई अड्डा उत्‍तर प्रदेश, विशेषकर पश्‍चिमी उत्‍तर प्रदेश के आर्थिक परिदृश्‍य को बदल देगा। पीएम मोदी ने कहा कि इस हवाई अड्डे के निर्माण से न केवल रोजगार के भरपूर अवसर पैदा होंगे, बल्‍कि क्षेत्र से निर्यात को भी बढ़ावा मिलेगा।

ये एयरपोर्ट विमानों के रखरखाव, रिपेयर और ऑप्रेशन का भी देश का सबसे बडा सेंटर होगा। यहां 40 एकड में मेनटेनेंस, रिपेयर एण्‍ड ओवरहौल एम आर ओ सुविधा बनेगी, जो देश-विदेश के विमानों को सर्विस देगी और सैंकड़ों युवाओं को रोजगार उपलब्‍ध कराएगी।

प्रधानमंत्री ने नोएडा हवाई अड्डे को उत्‍तर भारत का लॉजिस्‍टिक्‍स गेटवे बताते हुए कहा कि यह समूचे क्षेत्र को राष्‍ट्रीय गतिशक्ति मास्‍टर प्‍लान का शक्तिशाली प्रतिबिम्‍ब बनाएगा। पीएम मोदी ने उत्‍तर प्रदेश के विकास की उपेक्षा के लिए पिछली सरकारों की आलोचना करते हुए कहा कि उन्‍होंने हमेशा राज्‍य के लोगों को झूठे सपने दिखाए।

नागर विमानन मंत्री ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया ने कहा कि इस हवाई अड्डे के चालू होने के बाद साठ हजार करोड़ रुपए तक का निवेश आकर्षित हो सकेगा। प्रधानमंत्री जी का निर्देश था कि एशिया का सबसे बड़ा हवाई अड्डा बनेगा तो उत्‍तर प्रदेश के जेवर में बनेगा। इस हवाई अड्डे में आने वाले समय में अनेक प्रगति के आसार होंगे। आने वाले समय में उत्‍तर प्रदेश में नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद और समूचे यमुना एक्‍सप्रेस वे के इर्द-गिर्द क्षेत्र में प्रगति और विकास आएगी। एक लाख रोजगार के अवसर सृजन हो पाएंगे और उसी के साथ-साथ साठ हजार करोड़ रूपए का निवेश आएगा।

उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने कहा कि ये हवाई अड्डा, पश्‍चिमी उत्‍तर प्रदेश के विकास में बड़ी भूमिका निभाएगा और इससे रोजगार के नये अवसर पैदा होंगे।

पिछले साढे चार वर्ष के अंदर केवल गौतमबुद्ध नगर के अंदर ही जो कार्य हुए हैं मेट्रो लाइन के विस्‍तारीकरण का 1125 करोड़ रूपए की लागत से यह कार्य संपन्‍न हुआ है। आने वाले समय में जो कार्यक्रम होने जा रहे हैं, जिनमें फिल्‍म सिटी के निर्माण, अप्रैल पार्क, मेडिकल डिवाइस पार्क, टॉय पार्क, हेंडिक्राफ्ट पार्क ये तमाम योजनाएं यहां के लिए लागू होने जा रही हैं, जो यहां पर लाखों लोगों के लिए रोजगार की नई संभावनाओं को आगे बढेगा।

यह भी पढ़ें:

अपनी शादी और तलाक को लेकर चर्चा में है ये महिला