अनिल अंबानी की कंपनी का नहीं मिल रहा बढ़िया खरीदार! 5वीं बार बढ़ी ये डेडलाइन

कर्ज में डूबी अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस कैपिटल लिमिटेड के लिए समाधान योजना जमा करने की डेडलाइन बढ़ा दी गई है। बोली लगाने वालों द्वारा अधिक समय मांगने के चलते कंपनी के कर्जदाताओं ने बुधवार को पांचवी बार यह डेडलाइन बढ़ाई। अब नई डेडलाइन 28 अगस्त है, जबकि पिछली तारीख 10 अगस्त थी।

किसने की थी मांग: सूत्रों ने कहा कि पीरामल और टॉरेंट ने डेडलाइन 30 सितंबर तक बढ़ाने के लिए कहा था, जिसे कर्जदाताओं की समिति (सीओसी) ने खारिज कर दिया। वहीं, इंडसइंड बैंक ने 30 अगस्त तक विस्तार की मांग की थी।

सुस्त है डिमांड: रिलायंस कैपिटल की समाधान योजना जमा करने की तारीख पहले भी चार बार बढ़ाई जा चुकी है। बता दें कि रिलायंस कैपिटल को शुरुआत में 54 अभिरुचि पत्र (ईओआई) मिले थे, लेकिन अब केवल 5-6 बोलीदाता ही सक्रिय हैं। ठंडी प्रतिक्रिया के कारण सीओसी ने पहली समयसीमा में 75 करोड़ रुपये बयाना जमा करने की शर्त को भी खत्म कर दिया।

सूत्रों ने कहा कि बोलीदाताओं में से एक पीरामल समूह को भी अवरोध का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि बीमा नियामक इरडा ने रिलायंस निप्पॉन लाइफ इंश्योरेंस के लिए समूह की बोली पर चिंता व्यक्त की है।

नियमों के अनुसार, पीरामल के पास पहले ही एक जीवन बीमा फर्म में प्रवर्तक की हिस्सेदारी है, और वह किसी अन्य जीवन बीमाकर्ता में समान हिस्सेदारी नहीं ले सकती है। प्रामेरिका लाइफ इंश्योरेंस लिमिटेड (पीएलआईएल) की प्रवर्तक पीरामल समूह है।

यह पढ़े: टैरिफ चार्ज बढ़ाने का Vodafone Idea को मिला फायदा, यूं कम हुआ घाटा